मुख्य बिंदु

    
  • - आपकी होम लोन पात्रता की जांच करें
  • - जानें कि आप किस-किस प्रकार के होम लोन ले सकते हैं
  • - अपने होम लोन का प्री-अप्रूवल पाएं
  • - इन्हें आंकें –
    • उपलब्ध लोन राशि
    • लोन की लागत
    • देय EMI
    • लोन की अवधि
  • - KYC, इनकम और असल प्रॉपर्टी डॉक्यूमेंट जिन्हें लोन राशि पाने के लिए जमा करना होगा
  • - पक्का करें कि लेंडर के पास प्रॉपर्टी के डॉक्यूमेंट सुरक्षित ढंग से रखे जाएं और आसानी से वापस पाए जा सकते हों
  • - एक लोन कवर टर्म एश्योरेंस प्लान खरीद लें
  • - अपनी EMI का भुगतान नियमित रूप से करें
    

अपने घर का मालिक बनना आपके परिवार के कुछ सबसे बड़े फाइनेंशियल फैसलों में से एक है. पहली बार घर खरीदने वालों में से अधिकतर लोगों के लिए होम लोन ही वह एकमात्र जरिया है जिससे वे अपने घर का मालिक बनने के अपने सपने को साकार कर सकते हैं.

अगर आप होम लोन लेने की सोच रहे हैं, तो यह जरूरी है कि आप उसके बारे में सब कुछ समझ लें; आखिरकार, यह एक ऐसी जिम्मेदारी है जो कई सालों तक नहीं उतरेगी, तब तक नहीं जब तक कि आप लोन की सारी राशि चुका नहीं देते. होम लोन के लिए अप्लाई करने से पहले आपको ये 10 बातें जान लेनी चाहिए:

10 things you must know before you avail a home loanपात्रता की शर्तें

सबसे पहला कदम जो आपको उठाना होता है वह है यह पक्का करना कि आपहाउसिंग लोन के योग्य हों. शुरुआत में, लेंडर आपकी इनकम और रीपेमेंट क्षमता के आधार पर आपकी होम लोन पात्रता आंकेंगे. अन्य जरूरी चीजों में उम्र, योग्यता, फाइनेंशियल स्थिति, आश्रितों की संख्या, जीवनसाथी की इनकम और रोजगार का स्थायित्व शामिल हैं.

10 things you must know before you avail a home loanहोम लोन के प्रकार

निम्नलिखित प्रकार केहोम लोन उपलब्ध हैं:

एडजस्टेबल/फ्लोटिंग रेट लोन:

इस प्रकार के लोन में ब्याज की दर लेंडर की बेंचमार्क दर से जुड़ी होती है. अगर बेंचमार्क दर में कोई बदलाव होता है तो ब्याज दर भी उसी अनुपात में बदल जाती है.

फिक्स्ड रेट लोन:

फिक्स्ड रेट लोन में, ब्याज दर लोन लेते समय निश्चित कर दी जाती है. यही ब्याज दर लोन की संपूर्ण अवधि के दौरान लागू रहती है.

कॉम्बिनेशन लोन:

इस प्रकार के लोन में लोन का एक हिस्सा फिक्स्ड ब्याज दर पर और बाकी का हिस्सा एडजस्टेबल या फ्लोटिंग ब्याज दर पर मिलता है.

10 things you must know before you avail a home loanपहले घर या पहले लोन

बेहतर यह है कि अपना घर चुनने से पहले अपना होम लोन प्री-अप्रूव करवा लें. प्री-अप्रूवल से आपको अपना बजट सही-सही तय करने में और उसी के दायरे में अपने घर की तलाश सीमित रखने में मदद मिलती है. प्री-अप्रूवल से बेहतर मोलभाव करने और सौदा जल्दी पक्का करने में भी मदद मिलती है. आप अपनी पसंदीदा जगह में अच्छी प्रॉपर्टी की उपलब्धता के बारे में अपने लेंडर से भी पूछ सकते हैं. असल में, कुछ प्रोजेक्ट ऐसे हो सकते हैं जो आपके लेंडर ने ही अप्रूव किए हों, इससे न केवल लेंडर द्वारा मांगे गए प्रॉपर्टी डॉक्यूमेंट में ढिलाई मिलती है, बल्कि आपको प्रोजेक्ट की क्वालिटी का भरोसा भी मिलता है.

10 things you must know before you avail a home loan

10 things you must know before you avail a home loanलोन की राशि

नियामक संस्था द्वारा परिभाषित के अनुसार, अधिकांश लेंडर आपकी लोन वैल्यू के आधार पर प्रॉपर्टी की लागत के 75 से 90 प्रतिशत तक का हाउसिंग लोन देते हैं. इसलिए, अगर लेंडर ने प्रॉपर्टी की वैल्यू ₹50 लाख लगाई है, तो आप ₹40 लाख (₹75 लाख तक की लोन राशि के लिए प्रॉपर्टी की लागत का 80%) तक का लोन ले सकते हैं बशर्ते आप होम लोन के लिए पात्र हों. यदि आप कोई को-एप्लीकेंट शामिल करते हैं, तो लेंडर उसकी इनकम को ध्यान में रखते हुए लोन की राशि बढ़ा सकता है. आपकी संतान, माता-पिता या जीवनसाथी आपके को-एप्लीकेंट हो सकते हैं. प्रॉपर्टी खरीदने के लिए बाकी का भुगतान आपसे अपेक्षित होता है. मिसाल के तौर पर, अगर प्रॉपर्टी की वैल्यू ₹50 लाख लगाई गई है और आपको ₹35 लाख का लोन स्वीकृत हुआ है, तो बाकी के ₹15 लाख आपका योगदान होगा. आप अपनी होम लोन पात्रता जांचने के लिए किसी हाउसिंग लोन पात्रता कैलकुलेटर का उपयोग कर सकते हैं.

10 things you must know before you avail a home loanआपके होम लोन की लागत

अपने हाउसिंग लोन की उपयुक्तता आंकते समय आपको उसकी लागत को भी ध्यान में रखना चाहिए. लागत में ब्याज के भुगतान, प्रोसेसिंग फीस, एडमिनिस्ट्रेटिव चार्ज, प्रीपेमेंट पेनल्टी, आदि शामिल होंगे. आदर्श रूप से, एडजस्टेबल/फ्लोटिंग रेट लोन के मामले में आपके होम लोन के प्रीपेमेंट चार्ज शून्य होने चाहिए. आपके होम लोन में एक मामूली फीस चुकाकर उसकी ब्याज दर घटाने का विकल्प भी होना चाहिए. होम लोन पर विचार करते समय, पक्का कर लें कि उसमें कोई छिपे हुए चार्ज न हों. नियामक के अनुसार, लेंडर के लिए अपनी वेबसाइट पर बिना कुछ छिपाए फीस और चार्ज से संबंधित जानकारी प्रकट करना जरूरी है.

EMI/Pre-EMIEMI/प्री-EMI

EMI का पूरा नाम है ईक्वेटेड मंथली इंस्टालमेंट यानि समान मासिक किस्त. आपको यह राशि हर महीने लेंडर को चुकानी होती है. इसमें मूलधन राशि का रीपेमेंट और लोन की बकाया राशि पर ब्याज का भुगतान शामिल होता है.

निर्माणाधीन प्रॉपर्टी के मामले में प्री-EMI लागू की जाती है. इस मामले में, आपको डेवलपर को जितनी राशि की किस्त चुकानी होती है उसके आधार पर आपके लोन की राशि हिस्सों में मिलती जाती है. आमतौर पर आपको मिली लोन की राशि पर केवल ब्याज (जिसे प्री-EMI ब्याज कहते हैं) का भुगतान शुरू करना होता है. अगर आप मूलधन का रीपेमेंट तुरंत शुरू करना चाहते हैं, तो आप लोन को हिस्सों में बांट सकते हैं और आप मिलती जा रहीं राशियों के योग पर EMI चुकाना शुरू कर सकते हैं.

tentureअवधि

होम लोन अधिकतम 30 सालों के लिए स्वीकृत किए जा सकते हैं, जो कि ग्राहक की पात्रता के अधीन है. अवधि अधिक होने से EMI घटाने में मदद मिलती है. मिसाल के तौर पर, अगर ₹10 लाख का होम लोन 10.40 प्रतिशत की ब्याज पर 20 साल के लिए लिया जाए तो EMI ₹9,917. बैठती है. अब अगर हम अवधि बढ़ाकर 30 साल कर दें तो EMI घटकर ₹9,073 रह जाती है.*

documentationडॉक्यूमेंटेशन

होम लोन के लिए जरूरी डॉक्यूमेंट को इन श्रेणियों में रखा जा सकता है:

केवाईसी (KYC) से संबंधित डॉक्यूमेंट:

इनमें आपकी पहचान और पते के प्रमाण आते हैं. इसके तहत आप मान्य पासपोर्ट, मतदाता पहचान पत्र, आधार कार्ड आदि पेश कर सकते हैं.

क्रेडिट/इनकम डॉक्यूमेंट:

इन डॉक्यूमेंट से लेंडर को आपकी लोन पात्रता आंकने में मदद मिलती है. अगर आप नौकरीपेशा हैं, तो आप अपनी पिछले 3 महीनों की सेलरी स्लिप जमा कर सकते हैं; अगर आप स्व-व्यवसायी हैं, तो आप पिछले 3 सालों की इनकम की गणना के साथ इनकम टैक्स रिटर्न जमा कर सकते हैं.

संपत्ति के डॉक्युमेंट:

इन डॉक्यूमेंट में बिक्री करार (एग्रीमेंट टू सेल), स्वामित्व विलेख (टाइटल डीड) आदि आते हैं. लेंडर इन डॉक्यूमेंट के आधार पर प्रॉपर्टी की उचित पड़ताल करता है.

जहां होम लोन अप्रूवल पाने के लिए आपको होम लोन एप्लीकेशन के साथ अपने KYC डॉक्यूमेंट और क्रेडिट/इनकम डॉक्यूमेंट जमा करने होते हैं, वहीं अपने होम लोन की राशि पाने के लिए आपको असल प्रॉपर्टी डॉक्यूमेंट जमा करने होते हैं.

अपने होम लोन के लिए ज़रूरी डॉक्यूमेंट की पूरी सूची देखने के लिए, www.hdfc.com देखें

आपके प्रॉपर्टी पेपर्स महत्वपूर्ण होते हैं. चूंकि आपके असल प्रॉपर्टी डॉक्यूमेंट, जैसे टाइटल डीड, एग्रीमेंट टू सेल, आपके योगदान की रसीदें आदि, फाइनेंस की जा रही प्रॉपर्टी में प्रतिभूति हित (सिक्योरिटी इंटरेस्ट) के तौर पर लेंडर के पास बंधक रखे जाते हैं, अतः यह जरूरी है कि लेंडर आपके डॉक्यूमेंट सुरक्षित ढंग से भंडारित रखे. डॉक्यूमेंट की आसानी से वापस प्राप्ति एक अन्य महत्वपूर्ण पहलू है. जांचें कि क्या लेंडर ने अपनी भंडारण इकाइयों को कई अलग-अलग स्थानों पर निर्मित किया है, ताकि जब कस्टमर को जरूरत हो तब डॉक्यूमेंट आसानी से वापस पाए जा सकें.

होम लोन लेने से पहले ये 10 चीजें ज़रूर जान लें क्या आप जानते हैं?
पात्रता की शर्तें होम लोन पात्रता मुख्य रूप से आपकी इनकम और रीपेमेंट क्षमता के आधार पर तय की जाती है.
होम लोन के प्रकार फ्लोटिंग रेट लोन लोकप्रिय हैं क्योंकि वे कस्टमर को लचीलापन प्रदान करते हैं.
पहले घर या पहले लोन आप परिवार के किसी कमाऊ सदस्य को को-एप्लीकेंट के तौर पर जोड़कर अपनी लोन पात्रता बढ़ा सकते हैं.
लोन की राशि लोन की राशि दिए जाते समय प्रचलित दर, आपके होम लोन पर लागू होने वाली ब्याज दर होती है.
आपके होम लोन की लागत आप प्रॉपर्टी चुनने से पहले भी होम लोन के लिए अप्लाई कर सकते हैं.
EMI/प्री-EMI अवधि जितनी अधिक होगी, EMI उतनी ही छोटी होगी.
अवधि प्रॉपर्टी के सभी को-ओनर को होम लोन का को-एप्लीकेंट बनना होगा. हालांकि, यह जरूरी नहीं कि सभी को-एप्लीकेंट, को-ओनर भी हों.
डॉक्यूमेंटेशन यह संभव है कि आप एक जगह रहते हों, किसी दूसरी जगह प्रॉपर्टी खरीदें, और अपना होम लोन किसी तीसरी जगह से चुकाएं.
इंश्योरेंस कवर आप एक छोटी सी फीस चुकाकर अपने फिक्स्ड रेट लोन को फ्लोटिंग रेट लोन में और फ्लोटिंग रेट लोन को फिक्स्ड रेट लोन में बदल सकते हैं.
डिफॉल्ट आपको हाउसिंग लोन के मूलधन की रीपेमेंट और ब्याज के भुगतान, दोनों पर टैक्स लाभ मिलते हैं.

eligiblity criteriaइंश्योरेंस कवर

आपको लोन की राशि कवर करने वाला लोन कवर टर्म एश्योरेंस प्लान जरूर खरीद लेना चाहिए. सर्वोत्तम उपलब्ध होम लोन इंश्योरेंस ढूंढने के लिए खोजबीन करना महत्वपूर्ण है. इससे, आपके साथ कुछ दुर्भाग्यपूर्ण हो जाने की स्थिति में आपके परिवार पर से बकाया लोन की देनदारी हट जाएगी क्योंकि उस स्थिति में इंश्योरेंस कंपनी लोन चुकाएगी. असल में, कई लेंडर इस बात पर जोर देते हैं कि आप होम लोन लेते समय इंश्योरेंस भी खरीद लें.

eligiblity criteriaडिफॉल्ट

अपनी EMI का नियमित भुगतान करते रहना सर्वश्रेष्ठ है. अगर कस्टमर 3 से अधिक किस्तों का भुगतान नहीं करता है, तो सिक्योरिटाइजेशन एंड रीकंस्ट्रक्शन ऑफ फाइनेंशियल एसेट्स एंड एनफोर्समेंट ऑफ सिक्योरिटी इंटरेस्ट एक्ट, 2002 (SARFAESI एक्ट) के अनुसार लेंडर के पास अदालत के दखल के बिना डिफॉल्ट (चूक) पर सीधी कार्रवाई करने की शक्ति होती है. अगर आपको फाइनेंशियल मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है, तो बेहतर यही रहेगा कि आप अपने लेंडर को अपने हालात के बारे में बता दें और जांच लें कि क्या आपकी रीपेमेंट अवधि में किसी विस्तार की गुंजाइश है.

*https://www.hdfc.com/home-loan-emi-calculator

Critical aspects of buying a resale propertyनिष्कर्ष

घर घरीदना एक बड़ा कदम होता है; साथ ही, यह आपकी जिंदगी का सबसे संतोषदायी अनुभव भी होता है. अपने खुद के घर का मालिक बनने में मदद के लिए होम लोन सबसे अच्छे विकल्पों में से एक है.

अपने विचार साझा करें

इस जानकारी को निजी रखा जाएगा और सार्वजनिक रूप से नहीं दिखाया जाएगा.