मुख्य बिंदु

    
  • हमारा देश जिस गति से कूड़े को मैनेज कर सकता है, उससे तेज़ गति से कूड़ा पैदा कर रहा है.
  • ऐसे कूड़े-कचरे के उत्पादन को कम करने का सबसे अच्छा तरीका है, घर से शुरुआत करना.
  • आप अपने घर को पर्यावरण अनुकूल बनाकर एक शुरुआत कर सकते हैं.
    

हमें वातावरण के प्रति अपने कर्तव्य निभाने चाहिए; खास तौर पर अब. क्यों? क्योंकि भारत प्रतिदिन 60 मिलियन टन से अधिक कचरा उत्पन्न करता है, जिसमें से 75% का प्रबंधन नहीं किया जाता और इसे धरती में डाल किया जाता है, रिपोर्ट्स के अनुसार.1 जैसा कि स्पष्ट है, इस मामले में शहर ग्रामीण क्षेत्रों से अधिक योगदान करते हैं. घर पर वेस्ट मैनेजमेंट के तरीके अपनाकर, घर पर कचरे को कम किया जा सकता है.

आप अपने घर में छोटे-छोटे बदलाव ला सकते हैं जिससे बड़े प्रभाव पैदा हो सकते हैं. इन सरल तरीकों पर एक नज़र डालें जिनसे घर पर कचरे को कुशलतापूर्वक मैनेज किया जा सकता है.

1. प्लास्टिक के उपयोग को नियंत्रित करें

खबरों में अक्सर आता है कि प्लास्टिक के कचरे से जानवर या समुद्री जीवों पर संकट आता है या उनकी मृत्यु हो जाती है. ये हमें संकेत देते हैं कि हमें अपने दैनिक जीवन में जितना संभव हो सके, प्लास्टिक का उपयोग कम करना चाहिए. प्लास्टिक की पानी की बोतलें खरीदने से बचें; इसके बजाय, जब भी आप बाहर निकलते हैं तो अपनी खुद की पानी की बोतल ले जाएं. प्लास्टिक स्ट्रॉ का उपयोग बंद करें और सीधे गिलास से पीएं. प्लास्टिक के बजाय स्टील या कांच के कप का उपयोग करें और जब भी आप शॉपिंग के लिए बाहर निकलते हैं तो अपने साथ कपड़े के बैग ले जाएं. आप अपनी पुरानी जीन्स से भी बैग बैग बना सकते हैं.

2. कूड़े को विभाजित करें

बहुत से देश ऐसा करते हैं और काफी हद तक कचरे को कम करने में कामयाब भी रहे हैं. हमें सबसे अच्छे तरीकों का पालन करना चाहिए और स्वस्थ आदतें बनानी चाहिए, क्योंकि घर पर कचरे के प्रबंधन में समय की आवश्यकता होती है. कचरे को डिग्रेडेबल (नष्ट होने योग्य) और नॉन-डिग्रेडेबल (नष्ट नहीं होने योग्य) कचरे में अलग-अलग करें. आप बचे हुए भोजन, फलों और सब्जियों के छिलकों आदि से घर पर कम्पोस्ट भी बना सकते हैं. कचरे को अलग करने से न केवल रीसाइक्लिंग प्रोसेस बहुत आसान बन जाता है, बल्कि इससे स्वस्थ और स्वच्छ परिवेश को बनाए रखने में भी मदद मिलता है.

3. कागज़ का उपयोग कम करें

हां, हम समझते हैं कि सभी आवश्यकताओं के समय कागज का उपयोग नहीं करना, पर्यावरण के प्रति बहुत उच्च स्तर की प्रतिबद्धता है. लेकिन, आप अपने घर में जितना संभव हो, उतना कम कागज़ और कागज़ के प्रोडक्ट का उपयोग करें. आप किचन में पेपर टॉवल की जगह कपड़े के रैग का इस्तेमाल कर सकते हैं. नोटबुक या डायरी का उपयोग करने के बजाय, अपने जनरल के लिए सॉफ्ट कॉपी का इस्तेमाल करें. हार्ड कॉपी के बजाय ई-बुक खरीदें. अपने हाथों और चेहरे को पोंछने के लिए टिशू पेपर के बजाय रूमाल का उपयोग करें. आवश्यक होने पर पेपर प्लेट का उपयोग करने के बजाय मेटल या ईको-फ्रेंडली बांस के जूट की प्लेट और कटलरी खरीदें. अपनी पसंद में इस तरह के छोटे-छोटे बदलाव करने से बड़ा बदलाव हो सकता है और घर के कचरा का प्रबंधन संभव हो सकता है.

4. कम्पोस्ट बनाने को हां कहें

कंपोस्टिंग पौधों के लिए गीले कूड़े को उर्वरक में बदलकर कचरे को कम कर सकती है. इसके अलावा, अगर आप अपने खुद का गार्डन बनाने की योजना बना रहे हैं, तो आप अपने पौधों को पोषण देने के लिए घर बनाए गए, पर्यावरण अनुकूल, रसायन मुक्त उर्वरक होंगे.

5. अपने भोजन को एडवांस में प्लान करें

लोगों द्वारा अतिरिक्त भोजन को फेंकने से बहुत सारा कचरा उत्पन्न होता है, क्योंकि लोग अपने भोजन के लिए पहले से प्लान नहीं बनाते हैं. कचरे को कम करने के तरीकों में से एक है प्लान बनाना; यह निश्चित रूप से भोजन की बर्बादी को कम करने में मदद करता है. जब अच्छे से प्लान बनाया जाएगा, तो आप केवल वही बनाएंगे, जो आपको खाना है और आप निर्धारित समय के भीतर उसे खत्म कर लेंगे. आपके इसके अलावा कुछ नहीं करना है. लंबे समय में, आप ऐसा करके अपनी मेहनत की कमाई को भी बचा सकेंगे, क्योंकि इससे आपकी खरीदारी (किराने के सामान की खरीदारी) की आदतें बेहतर होती हैं.

6. अच्छी क्वॉलिटी के कपड़े खरीदें

जब आप लंबे समय तक चलने वाले कपड़े खरीदते हैं, तो आप बेकार कपड़ों के कारण पैदा होने वाले कचरे को कम करते हैं. अच्छी क्वालिटी वाले कपड़े थोड़े महंगे हो सकते हैं, लेकिन वे अपने सस्ते कपड़ों की तुलना में लंबे समय तक टिकते हैं. अगर आप कुछ समय बाद ऐसे कपड़ों से बोर महसूस करते हैं, तो उन्हें फेंकें नहीं, बल्कि उन्हें ज़रूरतमंद लोगों को दे दें.

7. अपने बिलों का ऑनलाइन भुगतान करें

घर में समय के साथ बिलों के रूप में जमा होने वाला कचरा परेशानी भरा हो सकता है. अपने सभी बिल के लिए ऑनलाइन भुगतान करने का विकल्प चुनें. यह एक तेज़ और कागज़-मुक्त सुविधा है. अपने बैंक और अन्य सोर्स को ई-स्टेटमेंट या ई-बिल भेजने के लिए कहें. इसका पालन करने का एक और लाभ यह है कि आप इसे अपने ऑनलाइन कैलेंडर पर नोट कर सकते हैं और ऑटोमेटिक रूप से भुगतान कर सकते हैं, जिससे आप भुगतान भूलने की परेशानी से बच जाएंगे.

7 simple ways of waste management at home

रिफरेंस :

1. https://www.epw.in/node/151565/pdf

अपने विचार साझा करें

इस जानकारी को निजी रखा जाएगा और सार्वजनिक रूप से नहीं दिखाया जाएगा.