मुख्य बिंदु

    
  • लोन अगेंस्ट प्रॉपर्टी से आप अपनी प्रॉपर्टी को कोलैटरल पर रखकर तुरंत फंड
  • वेतनभोगी और अपना रोजगार करने वालों के लिए उपलब्ध
  • आपको निम्न लाभ मिलते हैं –
    • पर्याप्त लोन अमाउंट
    • लंबी रीपेमेंट अवधि
    • यह कन्ज्यूमर/कॉमर्शियल लोन से सस्ता है
    • कई उद्देश्यों के लिए फंड का उपयोग
    • सरल डॉक्युमेंटेशन और आसान प्रोसेसिंग
    

लोन अगेंस्ट प्रॉपर्टी से आप अपनी प्रॉपर्टी को कोलैटरल पर रखकर तुरंत फंड प्राप्त कर सकते हैं. लंबी रीपेमेंट अवधि और कम ब्याज दर इसे लोकप्रिय विकल्प बनाती है.

आलोक शाह (बदला हुआ नाम), एक अपना रोजगार करने वाले उद्यमी ने हाल ही में अपनी कंपनी की 10 वीं वर्षगांठ मनाई और अब वह अपने बिजनेस को बढ़ाकर नए स्तर पर ले जाना चाहता है. हालांकि उसने बिजनेस बढ़ाने की अपनी योजना के लिए फंड निर्धारित किया था, लेकिन एक इमर्जेन्सी के कारण फंड कहीं और लगाना पड़ गया. योजना रोकने और गति खो देने के बजाय, उसने एक अनसिक्योर्ड लोन के लिए अप्लाई करने के बारे में सोचा और उस ऊंची ब्याज दर को जानकर हैरान रह गया, जो उसे चुकानी पड़ती. उसने यह बात अपने करीबी दोस्त को बताई, जिसने उसे अपने घर की संभावनाओं का फायदा उठाने और इसे सिक्योरिटी के रूप में उपयोग करने और प्रापर्टी पर लोन लेने की सलाह दी.

जैसा कि नाम से पता चलता है, प्रापर्टी पर लोन एक सुरक्षित लोन होता है जो अपनी निजी प्रापर्टी (रेज़िडेंशियल या कॉमर्शियल) लेंडर के पास गिरवी रखकर लिया जाता है. यह लोन अपने अनेक फायदों की वजह से कई लोगों के लिए एक लोकप्रिय विकल्प बन गया है, तो आइए इसके बारे में और जानें.

रीपेमेंट की लंबी अवधि के साथ बड़ा लोन अमाउंट

लेंडर की पॉलिसी के आधार पर, आप रखी जाने वाली प्रापर्टी की मार्केट वैल्यू का 60 प्रतिशत तक लोन पा सकते हैं. इसके अलावा, आप मंथली रीपेमेंट की किस्तें अपनी पहुंच में सुनिश्चित करते हुए अपेक्षाकृत लंबी रीपेमेंट अवधि (15 वर्ष तक) का लाभ उठा सकते हैं.

लोन का उपयोग कई उद्देश्यों के लिए किया जा सकता है

लेंडर, लोन अमाउंट के उपयोग पर कोई शर्त नहीं लगाता है. इसका उपयोग कई उद्देश्यों के लिए किया जा सकता है, जिसमें किसी आगामी शादी के खर्च को पूरा करने से लेकर बिजनेस और विस्तार योजनाओं की फाइनेंसिंग आदि शामिल हैं अर्थात बिजनेस के लिए लिया गया लोन किसी हेल्थकेयर खर्च को पूरा करने के लिए और यहां तक ​​कि कोई प्रापर्टी या ऐसी संपत्ति खरीदने के लिए भी किया जा सकता है जिसके लिए अन्यथा उस प्रयोजन से लोन मिलने की योग्यता नहीं होती है.

सभी के लिए लोन

यह लोन न केवल वेतनभोगी के लिए है, बल्कि अपना रोजगार करने वाले प्रोफेशल्स और बिजनेसमेन के लिए भी है.

सरल डॉक्युमेंटेशन और आसान प्रोसेसिंग

अन्य लोन्ज़ की तुलना में, प्रापर्टी पर लोन में डॉक्युमेंटेशन आवश्यकताएं कम होती हैं और यह जल्दी मिल जाता है.

All you wanted to know about Loan Against Property

All you wanted to know about Loan Against Propertyलोन की महत्वपूर्ण विशेषताएं

पात्रता

असुरक्षित लोन्ज़ के विपरीत, जिसमें कि आपकी वर्तमान इन्कम के अनुसार लोन अमाउंट तय किया जाता है, प्रापर्टी पर लोन के मामले में लोन अमाउंट को आपकी इन्कम के साथ-साथ वर्तमान प्रापर्टी के मूल्य के अनुसार तय किया जाता है. इसके अलावा, लोन अमाउंट और रीपेमेंट शर्तों पर आपकी उम्र और पिछली क्रेडिट हिस्ट्री का भी असर पड़ता है.

डॉक्यूमेंटेशन:

एप्लिकेशन फार्म और पहचान, पते और इन्कम के प्रूफ के साथ, आपको प्रापर्टी के मूल्यांकन की रिपोर्ट के अलावा ओनरशिप डॉक्युमेंट्‌स भी जमा करने होंगे. याद रखें, सही जानकारी दें क्योंकि लेंडर सभी प्रस्तुत सूचनाओं को वेरिफाई करेगा.

लोन की प्रोसेसिंग

सभी जानकारी वेरिफाई करके, और आपके रीपेमेंट दायित्व को पूरा करने को लेकर संतुष्टि होने पर, लेंडर आपके लोन अप्लिकेशन को प्रोसेस करेगा. कोलैटरल के रूप में रखी जाने वाली प्रापर्टी का आकलन करने के लिए फील्ड विजिट की जाएगी.

कास्ट

लोन पर लागू ब्याज दर के अलावा, लेंडर के हिसाब से प्रोसेसिंग शुल्क, मोर्गेज स्टांप डि्‌यूटी और अन्य चार्जेस हो सकते हैं.

लोन डिस्बर्समेंट

एक बार सभी फार्मेलिटी पूरी करने के बाद जब लोन मंजूर हो जाता है, तो लोन दे दिया जाता है. लोन की मात्रा के आधार पर, लोन को एक या 2-3 किश्तों में बांटा जा सकता है, जो एक टाइम पीरियड तक व्यापक हो सकती हैं, या नहीं भी हो सकती हैं.

रीपेमेंट

आम तौर पर, रीपेमेंट की अधिकतम अवधि 15 वर्ष होती है. इसके अलावा, ब्याज दर के चुने गए प्रकार और कॉमर्शियल रिफाइनेंस के मामले में प्रीपेमेंट (पार्शियल या फुल) के मामले में प्रीपेमेंट चार्ज लागू हो सकता है.

लोन ट्रांसफर

लोन अवधि के दौरान, यदि आप ज्यादा बेहतर शर्तों पर लोन प्राप्त करने में सक्षम हैं, तो आपके पास मौजूदा लेंडर से नए लेंडर को लोन ट्रांसफर करने का विकल्प होता है. इसमें मौजूदा लोन का प्रीपेमेंट करते हुए नए लेंडर के यहां नए लोन के लिए अप्लाई किया जाता है. लोन ट्रांसफर का विकल्प चुनने से पहले, शामिल सभी लागतों (कास्ट्‌स) की गणना करें. नए लोन पर प्रीपेमेंट शुल्क और लोन प्रोसेसिंग और अन्य शुल्क को देखते हुए, लोन ट्रांसफर से कोई बचत नहीं भी हो सकती है.

All you wanted to know about Loan Against Propertyसबसे उचित लेंडर चुनना

यह सुनिश्चित करने के लिए कि आप कम से कम कीमत पर अधिकतम फायदा ले सकें, निम्न बातों पर विचार करें:

एप्लिकेशन प्रोसेस में आसानी

लोन एप्लीकेशन पूरे लोन प्रोसेस का पहला कदम है. यह उचित समय और कास्ट के साथ आसान और सरल होना चाहिए.

उचित लोन अमाउंट

हालांकि यह सच है कि आपको केवल उतना ही बॉरो करना चाहिए जो आप आसानी से रिपे कर सकते हैं, लेकिन यह सुनिश्चित करें कि आपको अपेक्षित अमाउंट मिल सके. कुछ लेंडर्स ऐसे भी होते हैं जो 'सरोगेट इन्कम' पर विचार करते हैं, जो ऐसे लोगों को लोन लेने की अतिरिक्त योग्यता देता है जिनके पास इन्कम के पर्याप्त स्वतंत्र साधन नहीं हो सकते हैं.

कास्ट

लोन से जुड़ी कास्ट केवल लोन अमाउंट पर लागू ब्याज दर ही नहीं है. कई अन्य शुल्क भी हो सकते हैं जो कुछ सौ रुपये या लोन का प्रतिशत हो सकते हैं. सभी पर विचार करें क्योंकि वे मिलकर लोन की कुल कास्ट बनाते हैं.

लेन-देन में आसानी

एक इंटरकनेक्टेड और बड़ा, ब्रांच नेटवर्क कस्टमर को कई जगहों पर आसानी से सेवाएं प्राप्त करने में सक्षम बनाता है. इसके अलावा, लोन अकाउंट तक इंटरनेट ऐक्सेस बकाया रीपेमेंट अमाउंट ट्रैक करने में आपकी मदद करता है. आज की व्यस्त जीवनशैली में यह सुविधा कम करके नहीं आंकी जा सकती है.

आसान रीपेमेंट विकल्प

जहां लोन आपको वांछित फंड तत्काल उपलब्ध करवाता है, वहीं आपको यह अवश्य सुनिश्चित करना होगा कि आप नियमित रूप से रीपेमेंट करते रह सकें. इसलिए, ऐसे लेंडर की तलाश करें जो आपको अपने इन्कम पैटर्न के अनुसार लोन को कस्टमाइज करने का विकल्प दे ताकि आप बिना किसी तनाव के नियमित रूप से लोन चुकता करते रह सकें.

अपने विचार साझा करें

इस जानकारी को निजी रखा जाएगा और सार्वजनिक रूप से नहीं दिखाया जाएगा.