जड़ी-बूटियों के पौधों को बगीचे या कंटेनर में आसानी से उगाया जा सकता है. यहां किसी भी डिश का स्वाद बढ़ाने में सक्षम 12 स्वादिष्ट जड़ी-बूटियों को उगाने और तैयार करने का तरीका बताया गया है.

तुलसी

तुलसी न केवल किसी भी नुस्खे के लिए काम में ली जा सकती है, बल्कि यह किसी भी धूप वाली जगह या कंटेनर में आसानी से उग जाती है. इसकी अधिकांश किस्में लगभग 18 इंच लंबी होती हैं, लेकिन कुछ की लंबाई 3 फीट तक की भी होती है. बैंगनी या कांसे के रंग के पत्तों वाली तुलसी की विभिन्न किस्मों के माध्यम से अपने घर के परिदृश्य में चार चांद लगाएं.

उगाने से संबंधित सलाह

तुलसी का पौधा ठंड में सही तरीके से नहीं बढ़ पाता है, इसलिए ठंड का मौसम बीत जाने पर ही इसे बाहर रखना शुरू करें. अधिकांश तुलसी खिलने से पहले सबसे अच्छा स्वाद देती है. तुलसी के बीज बोने के 6 सप्ताह के बाद यह पौधा पास्ता, पिज्जा, सलाद और अन्य व्यंजनों को स्वादिष्ट बनाने के लिए तैयार हो जाता है. पत्तियों को तोड़कर इसे मसाले के रूप में या सजावटी गार्निश के रूप में इस्तेमाल किया जा सकता है.

हरा प्याज

हरे प्याज का पौधा एक बहुमुखी पौधा होता है, आप इन्हें घर के बाहर या गमलों में उगा सकते हैं. ये पौधे हल्की या तेज धूप, दोनों में अच्छे से पनपते हैं तथा इनके गुलाबी या लैवेंडर फूल तितलियों को आकर्षित करते हैं.

उगाने से संबंधित सलाह

पौधे पर फूल आ जाने के बाद इसे काट दें, अधिक फलता-फूलता है. हरे प्याज की कलियां फूल के नीचे खिलती हैं, और आपको इन्हें मिट्टी के स्तर से ठीक उपर काटना होता है. हरा प्याज, चॉप मक्खन, पनीर, डिप्स और स्प्रेड को स्वादिष्ट बनाता है. यह आलू के व्यंजंनों और ब्रेड व सलाद पर भी बहुत अच्छा लगता है.

सोआ

यह सुंदर पीली जड़ी बूटी सूखी, धूप वाले क्षेत्रों में आसानी से उगती है और यह तितलियों को आकर्षित करती है. अन्य जड़ी बूटियों की तरह, हिरण और खरगोश इसे नहीं खाते हैं. अगर आप परिपक्व होने से पहले सभी फूलों की कटाई नहीं करते हैं, तो सोआ का पौधा स्व-परागण करके अपने आप हर साल खिलता रहता है.

उगाने से संबंधित सलाह

आपके लिए सोआ निरंतर उपलब्ध रहे, यह सुनिश्चित करने के लिए सीजन के दौरान हर चार सप्ताह में बीज बोएं. सोआ रसोई में बहुत उपयोगी होता है. इसके पत्ते सूप, आलू को एक चटपटा फ्लेवर देते हैं, जबकि बीज अचार, मुरब्बे, सलाद और तेल को स्वादिष्ट बनाते हैं.

नागदौना

स्वादिष्ट नागदौना लगभग 2 फीट लंबा पौधा होता है, और इसका आकर्षक पर्ण समूह बगीचे की बॉर्डर को एक सुंदर लुक प्रदान करता है. इसे उगाना आसान है और मुफ्त में अधिक पौधे प्राप्त करने के लिए आप इस बारहमासी पौधे को हर तीन से चार साल में विभाजित कर सकते हैं.

उगाने से संबंधित सलाह

नागदौना में अधिक वृद्धि के लिए इसके फूल देने वाले तने को काटें. इस झाड़ीदार पौधे के छोटे पत्ते अंडे, मछली, चिकन और अन्य मांस व्यंजनों में सुगंधित स्वाद का संचार करने के लिए जाने जाते हैं. नागदौना स्वादिष्ट फ्रेंच बर्नेस सॉस का एक प्रमुख घटक भी है.

लैवेंडर

लैवेंडर की शांत कर देने वाली सुगंध और खिले हुए फूल इसे एक मन को शांत करने वाली जड़ी बूटी बनाते हैं. यह गर्मी और धूप में पनपता है, लेकिन अत्यधिक नमी या पानी में नहीं पनप पाता है. फूल खिलने के बाद पौधों को ट्रिम करें, इससे पौधा और अधिक विकसित होगा.

उगाने से संबंधित सलाह

लैवेंडर का फूल जितना गहरे रंग का होता है, इसका स्वाद और सुगंध उतना ही बेहतर होता है. इसे लोशन, तेल, और डिटर्जेंट में संरक्षक जड़ी-बूटी के रूप में डाला जाता है, इसके अलावा यह चाय और जेली में भी अद्भुत स्वाद देता है. सूखे फूल कुकीज़, केक, आइसक्रीम, और जामुन में स्वाद और मिठास डालते हैं.
    
 
    
 
अगर आपके घर में कोई ऐसी खिड़की है जहां आठ घंटे धूप आती है, तो आप इस पर सभी प्रकार की जड़ी-बूटियों को उगा सकते हैं.
Be a herbivorous

लेमन बाम

लेमन बाम के पौधे को अधिक रख-रखाव की ज़रूरत नहीं पड़ती, यह बगीचे में और गमले में पूरी या आंशिक धूप दोनों में अच्छी तरह से विकसित होता है. यह एक बेहतरीन कीटरोधी है- लेकिन मधुमक्खियों, जिन्हें खट्टी गंध अच्छी लगती है, के मामले में यह काम नहीं करता है.

उगाने से संबंधित सलाह

लेमन बाम अच्छी तराई वाली मिट्टी में सबसे बेहतर तरीके से उगता है. लेमन बाम, चाय, मछली और पोल्ट्री व्यंजनों में एक ताजा और स्वादिष्ट फ्लेवर जोड़ देता है. इसकी पत्तियां नींबू पानी में डालने पर भी बहुत अच्छी लगती हैं.

मरुआ बनतुलसी

मरुआ बनतुलसी के लटकते तने लटकती हुई बास्केट में बहुत खूबसूरत लगते हैं, इसके साथ ही ये किसी सतह के सहारे-सहारे भी बढ़ सकते हैं. सर्दियों में, यह बूटी आपके घर में आसानी से उग जाती है, लेकिन अगर मौसम गर्मियों का है तो दोपहर में इसे हल्की छाया में रखने की सिफारिश की जाती है.

उगाने से संबंधित सलाह

अगर आप चाहते हैं कि आपका मरुआ बनतुलसी घने पेड़ के रूप में विकसित हो तो इसे सीजन में ही लगाएं. इस मसालेदार-मीठी जड़ी बूटी के सूखे पत्ते मांस, सिरका, अंडे और टमाटर का स्वाद बढ़ाने के लिए जाने जाते हैं.

पुदीना

पुदीना एक अल्फा जड़ी-बूटी है: यह मज़बूत और लचीली होती है और इसे तेज़ी से और आसानी से किसी भी जगह उगाया जा सकता है. नतीजतन, यह बहुत तेजी से बढ़ती है, इसलिए इसके अनियंत्रित विकास को रोकने के लिए इसे किसी पात्र में लगाएं. ठंड से त्वरित राहत के लिए आप पुदीने की पत्तियों को अपनी उंगलियों के बीच रगड़ सकते हैं. पुदीने की पत्तियों को तोड़ते समय उसकी ताज़ा सुगंध सबसे अधिक होती है.

उगाने से संबंधित सलाह

अगर आप इसे गमले में उगा रहे हैं तो इसकी वृद्धि पर नज़र रखें, जहां इस पौधे का तना मिट्टी को छूता है वहीं से इसकी जड़ें बढ़नी शुरू हो जाती है. पुदीने की स्वादिष्ट शीतलता पेय, डेसर्ट, सब्जियों और मांस व्यंजनों को एक अद्भुत स्वाद प्रदान करती है.

अजवायन की पत्ती

अजवायन को जंगली मार्जोरम के नाम से भी जाना जाता है, यह पौधा अपनी गैर-जंगली प्रजाति के मुकाबले अधिक विकसित और विपरीत परिस्थितियों का सामना करने में अधिक सक्षम होता है. यह जड़ी-बूटी खराब मिट्टी में भी अच्छी तरह से बढ़ती है, और आप इसे घर के मसाला रैक के हिस्से के रूप में बेड या खिड़की के गमले में रख सकते हैं.

उगाने से संबंधित सलाह

इसके तने से फूल तोड़ना इसकी वृद्धि को प्रेरित करता है. इतालवी भोजन का प्रमुख भाग, अजवायन की पत्ती पिज्ज़ा, पास्ता या ग्रिल्ड मीट और समुद्री भोजन में डाली जाती है. इसका उत्कृष्ट उपयोग, इसे सुखा कर उपयोग करना है.

मेंहदी

स्मरण और मित्रता की प्रतीक यह सदाबहार झाड़ी, गर्म, शुष्क पर्यावरण में बेहतर तरीके से पनपती है. सर्दियों में गुनगुनी धूप के मौसम में, रोजमैरी का पौधा पूरे साल बढ़ता है, लेकिन उत्तरी इलाकों में, सर्दियों के मौसम के दौरान इसे घर के अन्दर रख लें.

उगाने से संबंधित सलाह

रोज़मेरी के पौधे के चारों और बजरी और गीली घास बिछाएं, यह सुनिश्चित करेगा कि मिट्टी आवश्यकता से अधिक नम ना हो. रोज़मेरी की बारीक सुइयों को मसाले के रूप भोजन पर छिड़का जा सकता है या इन्हें पीस कर जड़ी-बूटी के मिश्रण में मिलाया जा सकता है. इसकी लजीज, ज़ायकेदार स्वाद स्टफिन्ग, सूअर के मांस, या पास्ता और चावल जैसे भोजनों को स्वाद प्रदान करता है.

कपूर की पत्ती

कपूर की पत्ती एक खूबसूरती से खिलने वाला अद्भुत पौधा है. बीजारोपण करने के बाद कभी-कभार यह बहुत धीमी वृद्धि दर्शाता है, इसलिए इसे पहले घर के अंदर उगाना चाहिए और थोड़ा परिपक्व हो जाने पर आप इसे बाहर लगा सकते हैं.

उगाने से संबंधित सलाह

अगर आप चाहते हैं कि कपूर की पत्ती का पौधा पूरी तरह से फले-फूले, तो इसे ठीक उस जगह के नीचे से काटें जहां कलियां बननी शुरू हुई हैं. अगर आप इसे तने से काटते हैं तो यह पौधा वापस नहीं पनपेगा. ताजा या हवा से सुखाए हुए सेज के पत्ते अंडे, पनीर और सब्जी के व्यंजनों को थोड़ा कड़वा कर देते हैं. इसी प्रकार मांसाहारी व्यंजनों का स्वाद बढ़ाने के लिए आप लाल मांस या मुर्गी पर कपूर के पत्ते रगड़ सकते हैं.

अजवायन के फूल

यह एक ग्रीक जड़ी बूटी है जो गर्मी और तेज़ धूप में अच्छे से पनपती है और शहद की मक्खियों को आकर्षित करती है. थाइम या अजवायन के फूलों को अगर अच्छे से पानी प्रवाहित होने वाली मिट्टी में लगाया जाए तो इनकी खुशबु और स्वाद कई गुना बढ़ जाता है, इसलिए इन्हें ढलान वाली जगह या बजरी के साथ मल्चिंग कर लगाएं.

उगाने से संबंधित सलाह

पौधों के खिलने के बाद, तने के लगभग एक तिहाई भाग को काट दें. अजवायन की सूखी पत्ती लाल मांस, चिकन और मछली में एक दिलकश स्वाद डाल देती है. भुनी हुई सब्जियों और चावल में डालने पर यह उनका स्वाद भी बढ़ा देती हैं.

अपने विचार साझा करें

इस जानकारी को निजी रखा जाएगा और सार्वजनिक रूप से नहीं दिखाया जाएगा.