खिलने और खूबसूरती के मामले में हिबिस्कस की बराबरी कोई नहीं कर सकता है. उष्णकटिबंधीय और उपोष्णकटिबंधीय क्षेत्रों का यह पौधा, आसानी से उगता है, विपरीत परिस्थितियों को झेल सकने वाला और सुंदर होता है.

अगर आप अपने बगीचे में जीवंतता और हरियाली, दोनों चाहते हैं, तो गहरे रंगों के फूल और गहरी हरी रंग के पत्तियों वाले हिबिस्कस के पौधे का चुनाव करें. हिबिस्कस मैलो परिवार से संबंधित है, होलीहॉक और भिंडी का पौधा भी इसी परिवार से जुड़ा होता है. यह एक देशी पौधा है, और यही कारण है कि यह भारतीय वातावरण में आसानी और सघनता से उग जाता है. यह भारत और चीन से उत्पन्न हुआ और बाद में पूरी दुनिया में फैल गया. आप पारंपरिक स्कार्लेट-फूलों के अलावा दूसरे विकल्प भी चुन सकते हैं - संकरण के कारण आज हिबिस्कस के 150 से भी अधिक प्रकार मौजूद हैं (हमारे पसंदीदा चुनावों के लिए "रंग और विविधता" देखें).

पादप के बारे में कुछ मुख्य बातें

हिबिस्कस मूल रूप से एक लकड़ी वाला पादप है, यह बहु शाखा युक्त एक झाड़ी होता है जो 6 फीट तक बढ़ सकता है. अपने प्राकृतिक रूप में, इसके फूल लाल और मैरून रंग के होते हैं, लेकिन संकरण के कारण अब इसके फूल पीच, सफेद, पीले और यहां तक की बैंगनी रंग में भी उपलब्ध हैं. इसके फूल या तो एकल या बहु-पत्तीदार होते हैं, जो आपको बगीचे के लिए रंगों और फूलों की एक विस्तृत रेंज प्रदान करते हैं. हिबिस्कस, एक बहुत ही अनुकूलनीय और विपरीत परिस्थितियों को झेल सकने वाला पादप होता है, और बिना किसी खास देखभाल के पनप सकता है. वास्तव में, मसूरी जैसी जगहों में यह बहुत तेजी से फलता फूलता है. इस पादप को कटिंग विधि से उगाया जा सकता है: एक फुट लंबा मजबूत तना लें, रंग को पहचानने के लिए एक को छोड़कर सभी पत्तियों को हटा दें. तने को प्लांट हार्मोन पाउडर में डुबोएं, और इसमें अतिरिक्त छिद्रित मिट्टी डालें. लगभग तीन सप्ताह में इस पौध में नई पत्तियां आनी शुरू हो जाएंगी.

इस तने की जड़ों को अपनी पकड़ बनाने में एक सप्ताह का समय लगेगा, और इसके बाद पौधे को एक छोटे गमले में स्थानांतरित किया जा सकता है. कुछ महीने बीतने के बाद, पौधा और अधिक मजबूत हो जाता है, और आप अब इसे अपने बगीचे में कहीं भी लगा सकते हैं. हिबिस्कस के पौधे को साल में एक बार, बरसात के मौसम में छंटाई की आवश्यकता होती है, लेकिन यह सुनिश्चित करें कि छंटाई निर्धारित आकार में की जाए. बरसात के तुरंत बाद, पौधे में पोटाश की एक खुराक डालें, इससे इसके फूल बेहतर तरीके से खिलेंगे.

बहु-उपयोगी पादप

इस फूलदार झाड़ी के बहुत से उपयोग होते हैं. इसके फूलों का उपयोग कई देशों में चाय बनाने के लिए किया जाता है, और इसकी पत्तियों का उपयोग दक्षिण भारत और श्रीलंका में हेयर कंडीशनर के रूप में किया जाता है. पश्चिम बंगाल में, दुर्गा पूजा के दौरान, काली माता के पूजन समारोह में देवी काली को हिबिस्कस का फूल चढ़ाया जाता है, यह इस फूल को आध्यात्मिक और सांस्कृतिक पहचान देता है.

Flower Show - Hibiscus

रंग और विविधता

यहां सामान्य लाल के अलावा हिबिस्कस रोजा-सिनेंसिस के विभिन्न और आकर्षक संकर प्रारुपों के बारे में बताया गया है.

पर्सी लेनकास्टर

यह संकर पादप एक छोटा झाड़ीदार पौधा होता है.

हवाई व्हाइट

हाथीदांत के रंग के फूलों वाली यह झाड़ी देखने में बहुत सुंदर लगती है.

हिबिस्कस कॉलिनस

यह पादप अपने असामान्य द्विरंगी पुष्पों से, जो बैंगनी और चमकीले गुलाबी होते हैं, आपके घर और बगीचे के किसी भी कोने को रंगीन बना सकता है.

कल्याणी

यह झाड़ी लंबी होती है, और पूरे वर्ष फूल देती है.

डैफोडिल

यह नार्सिसस वंश के डैफोडिल से अलग होता है, यह संकरण पीले रंगों के फूलों के साथ बहुत आकर्षक दिखता है.

हिबिस्कस म्यूटाबिलस

इसके असामान्य दोहरी पत्तियों वाले फूल सफेद रंग से शुरू होते हैं, और दिन के दौरान लाल रंग के बन जाते हैं.

काली जाबा

कई शाखाओं वाले इस लंबे पादप पर गहरे लाल रंग के फूल उगते हैं.

अपने विचार साझा करें

इस जानकारी को निजी रखा जाएगा और सार्वजनिक रूप से नहीं दिखाया जाएगा.