मुख्य बिंदु

    
  • बदलते समाज के कारण ज़्यादा महिलाएं अपना घर ले रही हैं.
  • होम फाइनेंसर महिलाओं को आकर्षक शर्तें ऑफर करते हैं.
  • को-बॉरोअर के रूप में एक महिला लोन राशि बढ़ा सकती है, जिसके परिणामस्वरूप बड़ा घर और अधिक टैक्स लाभ मिल सकता है.
  • पहली बार घर खरीदने वालों के लिए, PMAY स्कीम क्रेडिट सब्सिडी प्रदान करती है लेकिन महिला का सह-मालिक होना अनिवार्य है.
  • इन सभी कारकों का अर्थ है भारत एक युग में प्रवेश कर रहा है जहां अधिक महिलाओं के पास उनके नाम पर घर होगा.
    

भारतीय समाज में अपने बराबर के अ​धिकार के लिए अब महिलाएं तेजी से आगे आ रही हैं. देश में महिलाएं फाइनेंशियल रूप से स्वतंत्र बन रही हैं, इसलिए वे अपने परिवारों के लिए घर खरीदने जैसे बड़े निर्णय पर भी ध्यान दे रही हैं. इससे होम लोन प्रोवाइडर महिलाओं के लिए विशेष स्कीम और अवसर लाते हैं जिससे महिलाएं अपना घर ले सकें और होम लोन के कुछ खास लाभ उन तक पहुच सकें.

The benefitभारत में महिलाओं के लिए होम लोन के लाभ

महिलाओं के लिए होम लोन के कई लाभ हैं. महिलाएं यह समझ रही हैं और होम लोन लेने का विकल्प चुन रही हैं. यहां कुछ लाभ दिए गए हैं:

1. कम ब्याज दरें: कई होम लोन संस्थान महिला एप्लीकेंट के लिए कम ब्याज दर प्रदान करते हैं. कम दर का इक्वेटेड मंथली इंस्टॉलमेंट (EMI) पर बहुत असर होता है और लोन की अवधि के दौरान महत्वपूर्ण बचत होती है.

2. सह-उधारकर्ताओं के रूप में महिलाओं के लाभ: महिलाओं को अपने पति के साथ सह-उधारकर्ताओं के रूप में अप्लाई करने का अवसर मिलता है. दोनों की संयुक्त इनकम का अर्थ अधिक लोन पात्रता और अपने परिवार के लिए उपयुक्त घर चुनने में अधिक सुविधा. इसके अलावा, पुरुष पार्टनर की तरह, महिलाओं को भी होम लोन रीपेमेंट पर टैक्स कटौती का लाभ मिलता है, जो मूलधन और ब्याज में अधिकतम कटौती की अनुमति के साथ क्रमशः रु. 1.5 लाख और रु. 2 लाख है1.

  व्यक्तियों के लिए होम लोन के टैक्स लाभ कपल के लिए होम लोन के टैक्स लाभ*
सेक्शन 80 C के तहत मूल राशि रु. 1,50,000 रु. 3,00,000
सेक्शन 24 के तहत ब्याज रु. 2,00,000 रु. 4,00,000
कुल कटौती रु. 3,50,000 रु. 7,00,000

*हर को-एप्लिकेंट को मिल रहे टैक्स लाभ की राशि उनके मूल राशि और ब्याज के रीपेमेंट में किए गए योगदान के अनुपात में होती है, ऊपर दी गई सीमा के अधीन.

3. कम स्टाम्प ड्यूटी: सरकार महिलाओं के लिए भी घर के स्वामित्व को प्रोत्साहित कर रही है. महिलाओं के लिए होम लोन के लाभ में कई राज्य सरकारों द्वारा तक कम स्टाम्प ड्यूटी शुल्क शामिल है. एक महिला ₹80 लाख की प्रॉपर्टी पर ₹80,000-₹1,60,000 तक बचा सकती है.

4. PMAY एक गेम चेंजर है: प्रधानमंत्री आवास योजना (PMAY) परिवार की महिला प्रमुख के लिए महिला सह-स्वामित्व को अनिवार्य बनाती है2. आर्थिक रूप से कमजोर सेक्शन (EWS) और PMAY स्कीम के कम इनकम ग्रुप (LIG) सेगमेंट में, विधवाओं के साथ-साथ एकल महिलाओं को प्राथमिकता दी जाती है3.

constructions

The benefitमहिलाओं को होम लोन क्यों लेना चाहिए?

कई कारकों के कारण महिलाओं को होम लोन लेना चाहिए:

एप्लिकेंट को विशेष सुविधा: कई लेंडिंग इंस्टीट्यूशन के डेटा एनालिटिक्स के अनुसार महिला एप्लीकेंट के लोन डिफॉल्ट कम होते हैं. इस प्रकार, एक महिला का होम लोन अप्रूव होने की संभावनाएं अधिक होती हैं.

विशेष स्कीम : लेंडर महिलाओं को घर के मालिक बनने के लिए प्रोत्साहित कर रहे हैं और महिलाओं को ध्यान में रखते हुए स्कीम लॉन्च कर रहे हैं और कम ब्याज़ दर भी ऑफर कर रहे हैं.

घर खरीदने का सही समय महिलाओं को घर खरीदने का विचार करना चाहिए क्योंकि यह भारत में घर खरीदने का सही समय है:

1. CLSS: पहली बार घर खरीदने वाले व्यक्ति PMAY के तहत ₹2.67 लाख तक की सब्सिडी का लाभ उठा सकते हैं, चाहे वो महिला हो या पुरुष4.

2. आकर्षक कीमतें: रियल एस्टेट सेक्टर आज आकर्षक कीमतों पर क्वालिटी प्रॉपर्टी ऑफर करता है, जिससे यह घर खरीदने के लिए सही समय है.

3. रेगुलेटरी पारदर्शिता:रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवलपमेंट एक्ट (RERA) ने भारतीय रियल एस्टेट में रेगुलेटरी पारदर्शिता को बढ़ाकर एक नए दौर की शुरुआत की है.

आज महिलाओं के पास सहायक फाइनेंशियल संस्थानों और मददगार सरकार के साथ अपने घर के स्वामित्व पाने का रास्ता साफ है, वे अपने सपनों का घर आसानी से पा सकती हैं.

अपने विचार साझा करें

इस जानकारी को निजी रखा जाएगा और सार्वजनिक रूप से नहीं दिखाया जाएगा.