अपना खुद का एक घर होना हर किसी का सपना होता है. नागरिकों को प्रॉपर्टी में इन्वेस्ट करने के लिए प्रोत्साहित करने के लिए, सरकार 1961 के इनकम टैक्स एक्ट ("इनकम टैक्स एक्ट") के तहत होम लोन पर विभिन्न टैक्स लाभ प्रदान करती है. सभी होम लोन टैक्स लाभों के बारे में जानना आवश्यक है, क्योंकि यह आपको अपने टैक्स भुगतान के दौरान महत्वपूर्ण राशि बचाने में मदद कर सकता है.

होम लोन में मूलधन का पुनर्भुगतान और ब्याज, दोनों भुगतान शामिल होते हैं. इनकम टैक्स एक्ट के सेक्शन 80C और सेक्शन 24(b) के तहत क्रमशः इन दोनों कैटेगरी के तहत टैक्स कटौती का लाभ लिया जा सकता है.

होम लोन निम्न प्रकार से टैक्स लाभ के लिए पात्र है-

सेक्शन टैक्स कटौती का प्रकार अधिकतम कटौती (₹)
अनुभाग 80C मूलधन पुनर्भुगतान पर टैक्स कटौती रु.1,50,000 तक
सेक्शन 24B ब्याज की राशि पर टैक्स कटौती रु.2,00,000 तक
सेक्शन 24 के साथ सेक्शन 26 जॉइंट ओनर्स के लिए होम लोन पर टैक्स कटौती प्रत्येक जॉइंट उधारकर्ताओं के लिए क्रमशः ₹ 2,00,000 तक, जो सह-उधारकर्ता हैं

Tax deductions on principal repaymentसेक्शन 80C के तहत मूल पुनर्भुगतान
पर टैक्स कटौती

इनकम टैक्स एक्ट की धारा 80(c) के तहत, EMI के रूप में मूलधन के पुनर्भुगतान पर, प्रति फाइनेंशियल वर्ष ₹ 1.5 लाख तक की टैक्स कटौती का लाभ लिया जा सकता है. रेजिडेंशियल हाउस प्रॉपर्टी का निर्माण पूरा होने के बाद ही इस कटौती का लाभ उठाया जा सकता है. ध्यान दें: अगर आप ऐसी प्रॉपर्टी प्राप्त होने वाले फाइनेंशियल वर्ष के अंत से 5 वर्षों के भीतर अपनी प्रॉपर्टी बेचते हैं, तो यह लाभ वापस लिया जाएगा.

Deduction for stamp duty and registration charges सेक्शन 80C के तहत स्टाम्प ड्यूटी और
रजिस्ट्रेशन शुल्क के लिए टैक्स कटौती

स्टाम्प ड्यूटी और रजिस्ट्रेशन शुल्क के लिए भी इनकम टैक्स एक्ट के सेक्शन 80(c) के तहत टैक्स कटौती के लिए क्लेम, किया जा सकता है, लेकिन यह मूलधन पुनर्भुगतान पर लागू ₹1.5 लाख की कुल लिमिट के भीतर होनी चाहिए. इस लाभ का लाभ उठाया जा सकता है, भले ही आपने होम लोन लिया हो या नहीं. इसके अलावा, यह लाभ केवल उस वर्ष में लिया जा सकता है, जिस वर्ष ये खर्चें किए गए हैं.

Tax deduction on interest paidसेक्शन 24B के तहत होम लोन पर भुगतान किए गए ब्याज पर टैक्स कटौती

आप इनकम टैक्स एक्ट के सेक्शन 24(b) के तहत अपने होम लोन पर भुगतान किए गए ब्याज पर कटौती का लाभ उठा सकते हैं. स्व-अधिकृत घर के लिए, आप अपनी ग्रॉस इनकम से वार्षिक रूप से ₹ 2 लाख की अधिकतम टैक्स कटौती के लिए क्लेम कर सकते हैं, बशर्ते कि घर का निर्माण/अधिग्रहण 5 वर्षों के भीतर पूरा हो जाए. इसके अलावा, स्व-अधिकृत घर के मामले में, लोन केवल अधिग्रहण या निर्माण के लिए लिया जाना चाहिए (यानी मरम्मत, नवीनीकरण, या पुनर्निर्माण के लिए नहीं). अगर निर्माण/अधिग्रहण की अवधि, निर्धारित अवधि से अधिक हो जाती है, तो आप वार्षिक रूप से ₹ 30,000 तक की खरीद, निर्माण, मरम्मत, नवीनीकरण या पुनर्निर्माण के लिए, होम लोन के ब्याज पर कटौती के लिए क्लेम कर सकते हैं. दूसरी ओर, अगर आपने अपनी प्रॉपर्टी को किराए पर दे दिया है, तो खरीद, निर्माण, मरम्मत, नवीनीकरण या पुनर्निर्माण के लिए, अपने होम लोन पर भुगतान किए गए ब्याज की पूरी राशि पर, टैक्स कटौती के रूप में क्लेम किया जा सकता है; इसके अलावा, इसमें कोई समय-सीमा निर्धारित नहीं है, जिसमें प्रॉपर्टी का निर्माण पूरा होना चाहिए. हालांकि, यह ध्यान रखें कि किसी दिए गए वर्ष में, इनकम की किसी अन्य कैटेगरी की तुलना में 'हाउस प्रॉपर्टी से आय' कैटेगरी के तहत, नुकसान की भरपाई को ₹ 2 लाख तक सीमित कर दिया गया है और अनवशोषित (अनब्सॉर्बेड लॉस) नुकसान, अगर कोई हो, को इनकम टैक्स एक्ट के प्रावधानों के अनुसार, बाद के वर्षों में भरपाई के लिए ले जाने की अनुमति दी गई है.

Deduction for first time home buyersनिर्माणाधीन प्रॉपर्टी के लिए भुगतान किए गए ब्याज पर टैक्स कटौती

अगर आप निर्माणाधीन प्रॉपर्टी खरीदते हैं और EMI का भुगतान करते हैं, तो आप निर्माण पूरा होने के बाद कटौती के रूप में अपने हाउसिंग लोन पर ब्याज के लिए क्लेम कर सकते हैं. इनकम टैक्स एक्ट, पूर्व-निर्माण अवधि के ब्याज और निर्माण के बाद की अवधि के ब्याज, दोनों की कटौती के लिए क्लेम करने की अनुमति देता है. पूर्व-निर्माण अवधि से संबंधित ब्याज को पांच समान वार्षिक किश्तों में कटौती के रूप में अनुमति दी जाती है, जिस वर्ष हाउस प्रॉपर्टी प्राप्त होती है या निर्मित होती है. इस प्रकार, टैक्सपेयर के लिए, सेक्शन 24(b) के तहत ब्याज पर उपलब्ध कुल कटौती, पूर्व-निर्माण अवधि (अगर कोई हो) से संबंधित ब्याज का 1/5th भाग + निर्माण के बाद की अवधि (अगर कोई हो) से संबंधित ब्याज है.

Deduction for first time home buyers

Deduction for joint home loan जॉइंट होम लोन के लिए टैक्स कटौती

अगर होम लोन संयुक्त रूप से लिया जाता है, तो प्रत्येक उधारकर्ता सेक्शन 24(b) के तहत ₹2 लाख तक के होम लोन ब्याज पर कटौती के लिए क्लेम कर सकते हैं और सेक्शन 80C के तहत मूल पुनर्भुगतान पर ₹ 1.5 लाख तक के टैक्स कटौती के लिए क्लेम कर सकते हैं. यह एक एप्लीकेंट द्वारा लिए गए होम लोन की तुलना में उपलब्ध कटौतियों की राशि को दोगुना करता है. हालांकि यह आवश्यक है कि दोनों एप्लीकेंट प्रॉपर्टी के सह-मालिक हों और EMI का भुगतान दोनों की तरफ से हो रही हो.

Tax benefits of owning a second propertyसेकंड होम लोन पर
टैक्स लाभ

अगर आप दूसरी प्रॉपर्टी खरीदने के लिए दूसरा होम लोन लेते हैं, तो आप इस टैक्स लाभ प्राप्त कर सकते हैं, हालांकि कटौती की कुल राशि ऊपर दर्ज संबंधित लिमिट के अधीन है. 2019 के केंद्रीय बजट के अनुसार, सरकार ने घर की प्रॉपर्टी में इन्वेस्टमेंट के लिए अधिक प्रोत्साहन प्रदान किए हैं. पहले, केवल एक प्रॉपर्टी को स्व-अधिकृत माना जा सकता था, और दूसरी प्रॉपर्टी को किराए पर दिया गया समझा जाता था और इसलिए, नोशनल रेंट की गणना की जाती थी और इनकम के रूप में टैक्स लिया जाता था. हालांकि, अब दूसरी प्रॉपर्टी को स्व-अधिकृत प्रॉपर्टी माना जा सकता है.

होम लोन में फाइनेंशियल लागत शामिल होती है, लेकिन अपने लोन का स्मार्ट तरीके से उपयोग करने से आपको फाइनेंशियल बोझ को कम करने में बेहद मदद मिल सकती है और आपकी टैक्स सेविंग को अधिकतम करने में मदद मिल सकती है

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

क्या होम लोन टॉप-अप टैक्स लाभ प्रदान करता है?

टॉप-अप होम लोन सेक्शन 80C के तहत टैक्स लाभ के लिए पात्र है, अगर इसका उपयोग आवासीय घर जैसी प्रॉपर्टी खरीदने या निर्माण के उद्देश्यों के लिए किया जाता है, और सेक्शन 24(b) का उपयोग केवल तभी होता है, जब इसका उपयोग क्लेम की गई कटौती के आधार पर रेजिडेंशियल प्रॉपर्टी के अधिग्रहण, निर्माण, मरम्मत, रिन्यूअल या पुनर्निर्माण के लिए किया जाता है.

क्या होम लोन प्रोटेक्शन इंश्योरेंस टैक्स लाभ प्रदान करता है?

आप होम लोन प्रोटेक्शन इंश्योरेंस प्लान के लिए भुगतान किए गए प्रीमियम पर सेक्शन 80C के तहत टैक्स कटौती के लिए क्लेम कर सकते हैं. जब आप अपने लेंडर से प्रीमियम की राशि उधार लेते हैं और EMI के माध्यम से पुनर्भुगतान करते हैं, तो कटौती की अनुमति नहीं है.

हाउसिंग लोन पर टैक्स कटौती के क्लेम के लिए कौन पात्र हैं?

प्रॉपर्टी के मालिक द्वारा टैक्स कटौती का क्लेम किया जा सकता है. अगर होम लोन संयुक्त रूप से (जैसे कि पति/पत्नी द्वारा) लिया जाता है, तो प्रत्येक उधारकर्ता अपने स्वामित्व के अनुपात में होम लोन पर कटौती का दावा कर सकते हैं और बशर्ते दोनों ही लोन का रीपेमेंट कर रहे हैं.

अगर मैं किसी घर का निर्माण करूं और कुछ वर्षों के बाद इसे बेचूं, तो क्या मैं टैक्स कटौती के लिए क्लेम कर सकता/सकती हूं?

अगर आप उस फाइनेंशियल वर्ष के अंत से 5 वर्षों के भीतर घर बेचते हैं, जिसमें ऐसी प्रॉपर्टी का कब्जा मिला था, तो सेक्शन 80C के अनुसार, क्लेम की गई लोन की मूल राशि के रीपेमेंट के संबंध में टैक्स कटौती को वापस ले लिया जाता है. ब्याज भुगतान की कटौती में कोई बदलाव नहीं होता है (अर्थात सेक्शन 24(b) के तहत क्लेम किए गए ब्याज कटौती की वापसी के लिए कोई समान प्रावधान नहीं है).

होम लोन पर अधिकतम कितना टैक्स लाभ मिलता है?

इनकम टैक्स एक्ट के विभिन्न सेक्शन के अनुसार हाउसिंग लोन के लिए अधिकतम टैक्स कटौती नीचे दी गई है

  • सेक्शन 24(b) के तहत स्व-अधिकृत घर के लिए ₹ 2 लाख तक
  • सेक्शन 80C के तहत ₹ 1.5 लाख तक

ध्यान दें: ऊपर दी गई जानकारी केवल उदाहरण और शिक्षा के उद्देश्य के लिए है. पाठकों को सलाह दी जाती है कि इस पर भरोसा न करें और अपने लिए टैक्स कटौती की राशि की गणना करने के लिए टैक्स कंसलटेंट से स्वतंत्र सलाह लें.

अपने विचार साझा करें

इस जानकारी को निजी रखा जाएगा और सार्वजनिक रूप से नहीं दिखाया जाएगा.