जब आप जड़ी-बूटियां और सब्जियां कंटेनरों में उगाते हैं, तो मिट्टी के ठोस होने और पोषक तत्वों की तेजी से कमी होने के कारण अच्छी फसल होने की संभावना कम हो जाती है. सही पॉटिंग मिक्स बनाकर इनसे निपटने में हम आपकी मदद करेंगे.

रोपाई केवल पहला काम है और वास्तव में सफल किचन गार्डनिंग के तीन P का यह एक है: अपने गार्डन की प्लानिंग बनाना, मिट्टी प्रीपेयर करना और अपनी सब्जियों की प्लांटिंग (रोपाई) करना. मिट्टी और पॉटिंग मिक्स जिसे अक्सर सबसे ज्यादा नजरअंदाज़ किया जाता है, जबकि वही वास्तव में सफल खेती और किचन गार्डनिंग का आधार है. स्वस्थ मिट्टी, जिसमें जीवित, सांस लेने वाले सूक्ष्मजीव हों, इसमें केंचुओं, सूक्ष्मजीवों, टरमाइट्‌स और मिट्‌टी में पाए जाने वाले अन्य सजीवों से समृद्ध करना चाहिए, जो लगातार जैव अपशिष्ट (आर्गनिक वेस्ट) और पत्तियों के कूड़े को अपघटित करते हैं और इसे पोषक तत्वों में बदल देते हैं जिसे पेड़ और पौधे अवशोषित करते हैं. जमीन में, केंचुए बिल बनाते हैं और मिट्‌टी तोड़कर इसे मुलायम, टूटी हुई और भुरभुरी बनाते हैं, जो जड़ों के फैलने और बढ़ने के लिए एक आदर्श वातावरण देती है. इसके अलावा, जमीन में, पोषक तत्वों की खोज के लिए जड़ों को पर्याप्त जगह मिलती है. लेकिन जब हम कंटेनरों में पौधे लगाते हैं, तो हम दो प्रमुख समस्याओं के साथ सामना करते हैं:

संघनन/ठोस होना

यह तब होता है जब मिट्टी कठोर हो जाती है क्योंकि प्राकृतिक जुताई वाली मिट्‌टी की तरह इसमें केंचुए, या मिट्‌टी में पाए जाने वाले कोई अन्य सूक्ष्मजीव नहीं होते.

पोषक तत्वों की कमी

यह जड़ों के फैलने और बढ़ने के लिए जगह की कमी के कारण होता है.

इसलिए, पॉटिंग मिक्स की ज़रूरत होती है, ताकि जमीन में प्राकृतिक रूप से मिट्‌टी में पाए जाने वाले गुण उसमें भी लाए जा सकें. यह संघनन और पोषक तत्वों की कमी की समस्याओं पर काबू पाने में मदद करता है. एक आदर्श पॉटिंग मिक्स हल्का, हवादार, लंबे समय तक टिकने वाला, नमी रोकने वाला और विभिन्न पोषक तत्वों से भरपूर होना चाहिए. गमलों की मिट्टी की कुछ विशेषताएं यहां बताई गई हैं, जिन पर हमें ध्यान देना चाहिए:

जलनिकास

सुनिश्चित करें कि मिश्रण से पानी आसानी से गुजर जाए और आपके पौधों की जड़ें अवरूद्ध न हों.

पानी रोकने की क्षमता

अत्यधिक सिंचाई से बचने और पर्याप्त नमी बनाए रखने के लिए.

हवायुक्त होना

आपके पौधों की जड़ों को आसानी से ऑक्सीजन उपलब्ध कराने के लिए.

न्यूट्रिएंट

आपके पौधों को पोषण प्रदान करने के लिए ताकि उनमें अच्छी तरह से, और समय पर फूल और फल आ सकें.

सूक्ष्मजीव और केंचुए

जैविक कचरे और खाद की रि-कम्पोस्टिंग का महत्वपूर्ण कार्य करके उसे ऐसे रूप में लाएं जो आपके पौधे अवशोषित कर सकें.

ऐंकरेज

पौधों को मज़बूती से टिके रहने में सहायता के लिए.

उचित सुझाव

गमले को इसकी गहराई के लगभग तीन-चौथाई तक भरें, बाद में अधिक खाद और पोषक तत्वों को डालने के लिए पर्याप्त स्थान छोड़ दें.

आपके पॉटिंग मिक्स के लिए कारगर चीज़ें

अपना खुद का, पारिस्थितिक रूप से संतुलित मिट्टी का मिश्रण बनाने के लिए, आपको निम्न चीज़ें मिलानी होंगी:

कोको पीट

नारियल की भूसी से बने, इस अक्रिय माध्यम में पानी रोकने का अच्छा गुण होता है. आपके मिश्रण में नमी बरकरार रखने के लिए इसे मिलाया जाता है. साथ ही, यह हल्का होता है, जो मिट्टी को ढीला, भुरभुरा और अच्छी तरह से हवादार रखने में मदद करता है. जड़ों को अपने कार्य प्रभावी ढंग से करने के लिए ऑक्सीजन की ज़रूरत होती है और कोकोपीट इस प्रक्रिया में मदद करता है. यह ऑनलाइन, या अधिकांश नर्सरियों में 5 किलोग्राम ब्लॉक की कीमत ₹200 पर उपलब्ध है.

कम्पोस्ट

यह मिश्रण को पोषक तत्व प्रदान करता है. आप या तो गोबर की खाद, वर्मीकम्पोस्ट, घर में निर्मित कम्पोस्ट, पत्तियों की खाद या विभिन्न प्रकार की कम्पोस्ट का उपयोग कर सकते हैं. हमारी तरह पौधे भी अपने भोजन में विविधता पसंद करते हैं. गुणवत्ता के आधार पर एक किलो खाद की कीमत ₹5-15 के बीच होती है.

मिट्टी

पॉटिंग मिक्स में, मिट्टी आपके पौधों को एंकरेज प्रदान करती है - जिसमें जड़ें रोकी जा सकती हैं. यह स्थानीय रूप से लगभग बिना किसी कीमत में उपलब्ध है.

वर्मीक्यूलाइट

यह प्राकृतिक रूप से पाया जाने वाला एक खनिज है जिसे खोदकर प्रोसेस करके मुलायम, हल्के ग्रेन्यूल्स बनाए जाते हैं. प्रत्येक ग्रेन्युल में सूक्ष्म रिक्तिकाएं, जड़ों के लिए स्थान बनाती हैं और पोषक तत्वों को रोकने में मदद करते हैं. विशिष्ट नर्सरियों में वर्मीक्यूलाईट लगभग ₹ 50-80 प्रति किलो मिलता है.

रेत

सूक्ष्म कण जल निकासी में मदद करते हैं. मिश्रण में रेत मिलाने से आपके गमलों और कंटेनरों में से पानी आसानी से गुजरने में मदद मिलती है.

नीम की खली

यह नीम के बीजों से तेल निकाले जाने के बाद बचने वाला अवशेष होता है. यह एक जैव उर्वरक (आर्गनिक फर्टिलाइजर) है और एक कवकनाशी, कीटनाशक के रूप में कार्य करता है और पौधों को चींटियों और परजीवी निमैटोड से बचाता है. आप इसे ₹ 30 प्रति किलो के हिसाब से खरीद सकते हैं.

सुनिश्चित करें कि कंटेनर में नीचे जल निकासी की व्यवस्था अवश्य हो, क्योंकि पानी का ठहराव न होने देना बहुत ज़रूरी है. यदि आपके कंटेनर में छेद कंचे से बड़े हैं, तो उन्हें नारियल की भूसी या जाल के एक छोटे से टुकड़े से ढक दें, ताकि पानी के निकास की सुविधा हो, लेकिन मिट्टी का मिश्रण बहकर बाहर न जाने पाए. बर्तन को इसकी गहराई के लगभग तीन-चौथाई तक भरें, जिससे भविष्य में अधिक खाद और पोषक तत्वों को डालने के लिए पर्याप्त जगह हो. प्लांटिंग करते समय मिश्रण को बहुत कसा न भरें. एक बार कंटेनर भर जाने पर, हल्के से पानी डालें ताकि गमले में भरी सारी सामग्री गीली हो जाए, और छिद्रों से पानी रिसने लगे.

यह माना जाता है कि पौधों की पीढ़ी की लंबी उम्र इस बात पर निर्भर करती है कि उसमें मिट्टी की कितनी अच्छी तरह देखभाल की गई है. इसी तरह से, आपके किचन गार्डन की सफलता इस बात पर निर्भर करेगी कि आपने अपने पौधों के लिए स्वस्थ, पोषक तत्वों से भरपूर मिश्रण बनाने और बनाए रखने के लिए कितनी सावधानी रखी है. अभी शुरू करें!

यदि आपके कंटेनर में छेद कंचे से बड़े हैं, तो उन्हें नारियल की भूसी या जाल के एक छोटे से टुकड़े से ढक दें, ताकि पॉटिंग मिक्स बहकर बाहर न जाने पाए.

आपके पॉटिंग मिक्स के लिए रेसिपीज

Perfecting The Potting Mix
अब जबकि आपके पास सारी सामग्रियां है, आइए कुछ बनाने की कोशिश करते हैं.

मिट्टी का प्रीमियम मिश्रण

  • A. 40% वर्मीकम्पोस्ट
  • B. 40% कोको पीट
  • C. 15% नीम की खली
  • D. 5% वर्मीक्यूलाइट

उच्च गुणवत्ता का मिट्टी का मिश्रण

  • A. 33% COCOPEAT
  • B. 33% मिट्‌टी
  • C. 34% कम्पोस्ट

बजट के अनुकूल मिट्टी का मिश्रण

  • उ. 33% रेत
  • B. 33% मिट्‌टी
  • C. 34% कम्पोस्ट

अपने स्वयं के पसंदीदा संयोजन तय करने के लिए मार्गदर्शक सिद्धांतों के रूप में इन अनुपातों का उपयोग करें. या उससे भी बेहतर यह होगा कि विशिष्ट पौधों के लिए सबसे कारगर संयोजन खोजें और फिर सफलता दोहराने के लिए इसे लिखकर रख लें.

अपने विचार साझा करें

इस जानकारी को निजी रखा जाएगा और सार्वजनिक रूप से नहीं दिखाया जाएगा.