अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न (FAQ)

हमें अपनी लोन की आवश्यकताओं के बारे में बताएं

मेरी रेजिडेंशियल स्थिति

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

एच डी एफ सी आपकी होम लोन पात्रता को मुख्य रूप से आपकी आय और पुनर्भुगतान क्षमता के अनुसार निर्धारित करेगा. अन्य महत्वपूर्ण कारकों में आपकी आयु, शैक्षिक योग्यता, आश्रितों की संख्या, आपके पति/पत्नी की इनकम (अगर हो), संपत्तियां और देनदारियां, बचत इतिहास और व्यवसाय की स्थिरता और निरंतरता शामिल हैं.

EMI, 'इकुएटिड मंथली इंस्टॉलमेंट' को कहा जाता है, यह वह राशि है जिसका भुगतान आप हमें हर महीने एक विशिष्ट तिथि को करेंगे, जब तक कि आपके पूरे लोन का भुगतान नहीं हो जाता है. EMI में मूलधन और ब्याज शामिल होते हैं, जो इस तरह से व्यवस्थित होता हैं कि आपके लोन के शुरुआती वर्षों में, ब्याज का हिस्सा मूलधन से अधिक होता है, जबकि लोन की आधी अवधि बीत जाने के बाद मूलधन का हिस्सा ब्याज से काफी अधिक हो जाता है.

‘एच डी एफ सी लोन को घटाने के बाद बचे प्रॉपर्टी के कुल मूल्य को 'ओन कॉन्ट्रीब्यूशन' कहा जाता है.

आपकी सुविधा के लिए, एच डी एफ सी हाउस लोन के लिए विभिन्न प्रकार के रीपेमेंट मोड ऑफर करता है. आप ECS (इलेक्ट्रॉनिक क्लीयरिंग सिस्टम) के माध्यम से किस्त देने के लिए अपने बैंकर को स्टैंडिंग इंस्ट्रक्शन दे सकते हैं, अपने एम्प्लॉयर द्वारा सीधे मासिक किस्त कटौती का विकल्प चुन सकते हैं या अपने सैलरी अकाउंट से पोस्ट-डेटेड चेक जारी कर सकते हैं.

अगर आप कोई प्रॉपर्टी खरीदने या उसका निर्माण करने का फैसला कर लें, तो आप किसी भी समय होम लोन के लिए अप्लाई कर सकते हैं, चाहे आपने प्रॉपर्टी का चयन या निर्माण कार्य शुरू न भी किया हो.

मार्किट वैल्यू का मतलब वह राशि, जो मार्किट की मौजूदा स्थितियों के हिसाब से, प्रॉपर्टी को बेचने पर प्राप्त होने की उम्मीद है.

आप हमारे नज़दीकी ऑफिस से एक एप्लीकेशन फॉर्म ले सकते हैं या इसे हमारी वेबसाइट से डाउनलोड कर सकते हैं और सहायक डॉक्यूमेंट और प्रोसेसिंग फीस के चेक के साथ किसी भी एच डी एफ सी ऑफिस में, जो आपके लिए सुविधाजनक हो, स्वयं जमा करवा सकते हैं. वैकल्पिक रूप से आप दुनिया में कहीं से भी हमारी वेबसाइट पर जाकर 'इंस्टेंट होम लोन’ पर क्लिक करके ऑनलाइन एप्लीकेशन दे सकते हैं और अपनी होम लोन की पात्रता तुरंत जान सकते हैं.

हां. आप इनकम टैक्स एक्ट, 1961 के तहत, आप अपने होम लोन के मूलधन और ब्याज पर टैक्स लाभ प्राप्त पर सकते हैं. चूंकि लाभ हर वर्ष बदल सकते हैं, यह जानने के लिए कि आप अपने लोन पर कैसे टैक्स लाभ प्राप्त कर सकते हैं, कृपया हमारे लोन काउंसलर के साथ बात करें.

लोन की सिक्योरिटी, आमतौर पर फाइनेंस की जाने वाली प्रॉपर्टी और/या एच डी एफ सी द्वारा मांगे जा सकने वाले अन्य कोलैटरल/अंतरिम सिक्योरिटी होगी.

आपके लिए यह सुनिश्चित करना अत्यंत महत्वपूर्ण है कि प्रॉपर्टी का अधिकार स्पष्ट हो, वह बेचने योग्य हो और किसी भी प्रकार के लोन से मुक्त हो. कोई भी मौजूदा बंधन, लोन या मुकदमा नहीं होना चाहिए, जो प्रॉपर्टी के अधिकार पर प्रतिकूल प्रभाव डालता हो.

जिस महीने आपको पूरा लोन डिस्बर्स हो जाता है, उसके अगले महीने से मूलधन का रीपेमेंट शुरू होता है. जब तक अंतिम डिस्बर्समेंट बाकी रहता हो, आप लोन के डिस्बर्स हो चुके हिस्से पर ब्याज का भुगतान करते हैं. इस ब्याज को प्री-EMI इंटरेस्ट कहा जाता है. हर डिस्बर्समेंट की तारीख से EMI शुरू होने की तारीख तक, प्री-EMI इंटरेस्ट हर महीने देना होता है.

निर्माणाधीन प्रॉपर्टी के मामले में, एच डी एफ सी 'ट्रांचिंग' नामक विशिष्ट सुविधा प्रदान करता है, जिसमें आप प्रॉपर्टी के पज़ेशन के लिए तैयार होने तक, आपके द्वारा दी जाने वाली किस्त को चुन सकते हैं. आपके द्वारा ब्याज की राशि से अधिक जितनी भी राशि जमा करवाई जाएगी, वह मूलधन राशि की रीपेमेंट के रूप में जमा हो जाएगी, इससे आपको लोन की रीपेमेंट जल्दी करने में मदद मिलेगी. खासतौर पर, यह उन मामले में फायदेमंद है, जिनमें डिस्बर्समेंट के बीच का अंतराल अधिक होने की अपेक्षा होती है.

प्राॅपर्टी के ट्रांज़ैक्शन में 'एग्रीमेंट टू सेल' खरीदार और विक्रेता के बीच स्टाम्प पेपर पर लिखित में किया गया वह समझौता होता है, जो कानूनी रूप से मान्य होता है इस पर प्राॅपर्टी की सभी जानकारी जैसे क्षेत्र, कब्जे की तिथि और कीमत आदि उल्लिखित होती है.

कई भारतीय राज्यों में, बेचने के लिए किए एग्रीमेंट को कानून द्वारा रजिस्टर करना आवश्यक है. हमारा सुझाव है कि आपको इंडियन रजिस्ट्रेशन एक्ट, 1908 के तहत राज्य सरकार द्वारा नियुक्त सब-रजिस्ट्रार के ऑफिस में एग्रीमेंट की तिथि के चार महीने के भीतर एग्रीमेंट को रजिस्टर करवाना चाहिए.

किसी प्रॉपर्टी पर भार होने का मतलब है उस प्रॉपर्टी पर कोई कर्ज़, जैसे कि न चुकाए गए लोन और बिल, की वजह से क्लेम या शुल्क का होना. यह महत्वपूर्ण है कि आप अपने लिए घर की खोज करते हुए उस प्रॉपर्टी को देखें, जो हर प्रकार के भार से मुक्त हो.

हां, किसी दूसरे बैंक/हाउसिंग फाइनेंस कंपनी या अपने नियोक्ता से लिए गए होम लोन के भुगतान हेतु आप हमारे यहां लोन के लिए अप्लाई कर सकते हैं. कृपया 'बैलेंस ट्रांसफर' के बारे में अधिक जानने के लिए हमारे नज़दीकी ऑफिस से संपर्क करें.

निर्माणाधीन प्रॉपर्टी का मतलब कोई ऐसा घर, जिसका निर्माण कार्य चल रहा है और खरीदार को उसका पज़ेशन भविष्य की किसी तिथि को दिया जाएगा.

प्रॉपर्टी का तकनीकी रूप से मूल्यांकन हो जाने पर, कानूनी डॉक्यूमेंटेशन प्रक्रिया पूरी होने और आपके द्वारा पूरा ओन कॉन्ट्रीब्यूशन इन्वेस्ट करने के बाद आप लोन का डिस्बर्समेंट प्राप्त कर सकते हैं. आप हमारे किसी भी ऑफिस में जाकर या फिर 'मौजूदा कस्टमर के लिए ऑनलाइन एक्सेस' विकल्प के माध्यम से लॉग-इन करके अपने लोन के डिस्बर्समेंट का अनुरोध कर सकते हैं.

डिस्बर्समेंट के लिए आपका अनुरोध प्राप्त करने के बाद, हम लोन को पूर्ण रूप से या किस्तों में डिस्बर्स करेंगे, जो आमतौर पर तीन से अधिक नहीं होती. निर्माणाधीन प्रॉपर्टी के मामले में, हम आपके लोन को निर्माण की प्रगति के आधार पर किस्तों में डिस्बर्स करेंगे, इसका आकलन हमारे द्वारा किया जाएगा और जरूरी नहीं कि वह डेवलपर के एग्रीमेंट के अनुसार हो. आपके हित में आपको यह सलाह दी जाती है कि आप डेवलपर के साथ एक ऐसा एग्रीमेंट करें जिसमें भुगतान, निर्माण कार्य के अनुसार हो, न कि समय के आधार पर पहले से ही निश्चित हो.

हां, आप मौजूदा प्रीपेमेंट शुल्क के अनुसार एकमुश्त राशि का भुगतान करके निर्धारित समय से पहले लोन चुका सकते हैं, यह भुगतान एक बार में या आंशिक रूप से किया जा सकता है. हम 'एक्सेलेरेटेड रीपेमेंट स्कीम' के तहत आपके लोन के रीपेमेंट में तेजी लाने के लिए निःशुल्क सुविधा प्रदान करते हैं. इस विकल्प में आप अपनी बढ़ती सैलरी के साथ, हर वर्ष अपनी EMI भी बढ़ा सकते हैं, जिससे आपके लोन का भुगतान और भी जल्द हो जाएगा.

हां, आपको यह सुनिश्चित करना होगा कि आपकी प्रॉपर्टी का विधिवत रूप से लोन की लंबित अवधि के दौरान आग लगने और अन्य संभावी खतरों के लिए इंश्योरेंस करवाया गया हो. आपको प्रत्येक वर्ष और/या जब भी कहा जाए, एच डी एफ सी को इसका प्रमाण भी प्रस्तुत करना होगा. इंश्योरेंस पॉलिसी का लाभार्थी एच डी एफ सी होना चाहिए.

इनकम टैक्स एक्ट, 1961, के अध्याय XX C के संदर्भ में, एक खास कीमत से अधिक कीमत की अचल प्रॉपर्टी को खरीदने का प्रथम अधिकार केंद्र सरकार के पास है. इसलिए इस अध्याय के अंतर्गत आने वाली किसी भी ट्रांजैक्शन को केवल अध्याय में दी गई मांगों का अनुपालन करने के बाद ही किया जा सकता है.

दूसरे बैंक/फाइनेंशियल इंस्टीट्यूशन से लिए गए होम लोन की बकाया राशि को एच डी एफ सी में ट्रांसफर करना बैलेंस ट्रांसफर लोन कहलाता है.

कोई भी बॉरोअर, जिसके पास दूसरे बैंक/HFI का मौजूदा होम लोन है और उसके 12 महीने के नियमित भुगतान का ट्रैक है, एच डी एफ सी से बैलेंस ट्रांसफर लोन ले सकता है.

एच डी एफ सी के 'टेलीस्कोपिक रीपेमेंट विकल्प', बैलेंस ट्रांसफर लोन अधिकतम 30 वर्ष की अवधि के लिए या रिटायरमेंट की आयु तक, दोनों में से जो भी कम हो, के लिए लिया जा सकता है.

बैलेंस ट्रांसफर लोन की ब्याज दर, होम लोन की ब्याज दर से अलग नहीं होती है.

हां. इनकम टैक्स एक्ट, 1961 के तहत, आप अपने बैलेंस ट्रांसफर लोन के मूलधन और ब्याज पर टैक्स लाभ प्राप्त पर सकते हैं. चूंकि लाभ हर वर्ष बदल सकते हैं, इसलिए यह जानने के लिए कि आप अपने लोन पर टैक्स लाभ कैसे प्राप्त कर सकते हैं, हमारे लोन काउंसलर से बात करें.

हां. एच डी एफ सी से बैलेंस ट्रांसफर लोन के साथ ₹50 लाख तक का टॉप अप लोन भी लिया जा सकता है.

बैलेंस ट्रांसफर लोन के लिए, आप डॉक्यूमेंट, शुल्क व प्रभार की सूची https://www.hdfc.com/checklist#documents-charges पर देख सकते हैं

हां, जिन्होंने निर्माणाधीन प्रॉपर्टी खरीदी है, वे कस्टमर एच डी एफ सी से बैलेंस ट्रांसफर लोन ले सकते हैं.

यह लोन घर को रिनोवेट करने (ढांचे/कारपेट एरिया से छेड़छाड़ किए बिना) जैसे टाइल लगवाना, फर्श बनवाना, अंदर/बाहर के हिस्से का प्लास्टर और पेंटिंग करवाना आदि के लिए दिया जाता है.

कोई भी व्यक्ति, जो अपने अपार्टमेंट/फ्लोर/रो हाउस की मरम्मत कराना चाहता है. मौजूदा होम लोन कस्टमर्स भी हाउस रेनोवेशन लोन के लिए अप्लाई कर सकते हैं.

आप अधिकतम 15 वर्ष की अवधि या रिटायरमेंट की आयु तक (दोनों में से जो भी कम हो) के लिए हाउस रेनोवेशन लोन ले सकते हैं.

हाउस रेनोवेशन लोन की ब्याज दरें, होम लोन की ब्याज दरों से अलग नहीं होती हैं.

हाउस रेनोवेशन लोन से केवल अचल फर्नीचर और फिक्स्चर ही खरीदे जा सकते हैं

हां. इनकम टैक्स एक्ट, 1961 के तहत, आप अपने हाउस रेनोवेशन लोन के मूलधन पर टैक्स लाभ प्राप्त पर सकते हैं. क्योंकि लाभ हर वर्ष बदल रहते हैं, इसलिए आप अपने लोन पर टैक्स लाभ कैसे प्राप्त करें यह जानने के लिए हमारे लोन काउंसलर से बातचीत कर सकते हैं.

लोन की सिक्योरिटी, आमतौर पर फाइनेंस की जाने वाली प्रॉपर्टी और/या एच डी एफ सी द्वारा मांगे जा सकने वाले अन्य कोलैटरल/अंतरिम सिक्योरिटी होगी.

प्रॉपर्टी का तकनीकी रूप से मूल्यांकन हो जाने पर, कानूनी डॉक्यूमेंटेशन प्रक्रिया पूरी होने और आपके द्वारा पूरा ओन कॉन्ट्रीब्यूशन इन्वेस्ट करने के बाद आप लोन का डिस्बर्समेंट प्राप्त कर सकते हैं.

एच डी एफ सी द्वारा आंकी गई निर्माण/रिनोवेशन की प्रगति के आधार पर एच डी एफ सी आपके होम इम्प्रूवमेंट लोन को किस्तों में डिस्बर्स करेगा.

आप डॉक्यूमेंट की सूची और लागू शुल्क व प्रभार की जानकारी https://www.hdfc.com/checklist#documents-charges पर देख सकते हैं

यह लोन अपने घर को बढ़ाने या उसमें रहने की जगह जोड़ने, जैसे अतिरिक्त कमरे या फ्लोर आदि बनाने के लिए है.

अपने मौजूदा अपार्टमेंट/फ्लोर/रो हाउस में अतिरिक्त स्थान जोड़ने के इच्छुक व्यक्ति एच डी एफ सी के होम एक्सटेंशन लोन की सुविधा का लाभ उठा सकते हैं. मौजूदा होम लोन कस्टमर भी होम एक्सटेंशन लोन ले सकते हैं.

होम एक्सटेंशन लोन अधिकतम 20 वर्ष की अवधि के लिए या रिटायरमेंट की आयु तक, दोनों में से जो भी कम हो, के लिए लिया जा सकता है.

होम एक्सटेंशन लोन की ब्याज दर, होम लोन की ब्याज दर से अलग नहीं होती है.

हां. इनकम टैक्स एक्ट, 1961 के तहत, आप अपने होम एक्सटेंशन लोन के मूलधन और ब्याज पर टैक्स लाभ प्राप्त पर सकते हैं. चूंकि लाभ हर वर्ष बदल सकते हैं, इसलिए यह जानने के लिए कि आप अपने लोन पर टैक्स लाभ कैसे प्राप्त कर सकते हैं, हमारे लोन काउंसलर से बात करें.

लोन की सिक्योरिटी, आमतौर पर फाइनेंस की जाने वाली प्रॉपर्टी और/या एच डी एफ सी द्वारा मांगे जा सकने वाले अन्य कोलैटरल/अंतरिम सिक्योरिटी होगी.

एच डी एफ सी द्वारा आंकी गई निर्माण/रिनोवेशन की प्रगति के आधार पर एच डी एफ सी आपके होम एक्सटेंशन लोन की किस्त को डिस्बर्स करेगा.

आप डॉक्यूमेंट की सूची और लागू शुल्क व प्रभार की जानकारी https://www.hdfc.com/checklist#documents-charges पर देख सकते हैं

टॉप-अप लोन का लाभ पर्सनल और प्रोफेशनल दोनों तरह की जरूरतों (कल्पित उद्देश्यों के अलावा) जैसे शादी, बच्चों की पढ़ाई, बिज़नेस एक्सपेंशन, अन्य लोन चुकाने आदि के लिए उठाया जा सकता है.

मौजूदा होम लोन, होम इम्प्रूवमेंट लोन या होम एक्सटेंशन लोन के सभी कस्टमर टॉप-अप लोन ले सकते हैं. हमारे बैलेंस ट्रांसफर लोन लेने वाले नए कस्टमर भी एच डी एफ सी से अतिरिक्त रूप से टॉप अप लोन ले सकते हैं. आप अपने मौजूदा होम लोन के अंतिम डिस्बर्समेंट के 12 महीनों बाद और पज़ेशन/मौजूदा फाइनेंस प्रॉपर्टी के पूरा होने पर टॉप अप लोन के लिए अप्लाई कर सकते हैं.

अधिकतम टॉप-अप लोन जो आप ले सकते हैं, वह आपके सभी मूल होम लोन के लिए स्वीकृत लोन राशि के बराबर हो, या ₹ 50 लाख, जो भी कम हो. यह संचयी बकाया लोन के अधीन है और टॉप अप में संचयी जोखिम के लिए 80% के अधिकतम सीमा से अधिक नहीं होने की पेशकश की जा रही है 75 लाख और 75% अगर संचयी जोखिम रुपये से अधिक है तो गिरवी रखी गई संपत्ति के बाजार मूल्य का 75 लाख होगा, जैसा कि HDFC द्वारा मूल्यांकन किया गया है.

टॉप अप लोन अधिकतम 15 वर्ष की अवधि के लिए या रिटायरमेंट की आयु तक, दोनों में से जो भी कम हो, के लिए लिया जा सकता है.

लोन की सिक्योरिटी, आमतौर पर फाइनेंस की जाने वाली प्रॉपर्टी और/या एच डी एफ सी द्वारा मांगे जा सकने वाले अन्य कोलैटरल/अंतरिम सिक्योरिटी होगी.

हां. एच डी एफ सी से बैलेंस ट्रांसफर लोन के साथ टॉप अप लोन भी लिया जा सकता है

आप डॉक्यूमेंट की सूची और लागू शुल्क व प्रभार की जानकारी https://www.hdfc.com/checklist#documents-charges पर देख सकते हैं

यह पूरी तरह से निर्मित, रेजिडेंशियल और कमर्शियल प्रॉपर्टी पर लिया जाने वाला लोन है: जो विवाह, चिकित्सकीय खर्च और बच्चों की पढ़ाई आदि जैसी पसर्नल और बिज़नेस आवश्यकताओं (कल्पित उद्देश्यों के अतिरिक्त) के लिए लिया जा सकता है; किसी दूसरे बैंक और फाइनेंशियल इंस्टीट्यूशन से लिए गए अपने मौजूदा लोन अगेंस्ट प्रॉपर्टी (LAP) को एच डी एफ सी में ट्रांसफर कर सकते हैं.

मौजूदा कस्टमर के लिए, सभी मौजूदा लोन का बकाया मूलधन और प्रॉपर्टी पर लोन संचयी रूप से, एच डी एफ सी द्वारा असेस किए गए बंधक प्रॉपर्टी के बाजार मूल्य के 60% से अधिक नहीं होना चाहिए. नए कस्टमर के लिए, आमतौर पर प्रॉपर्टी पर लोन एच डी एफ सी द्वारा असेस किए गए प्रॉपर्टी के बाजार मूल्य के 50% से अधिक नहीं होना चाहिए.

लोन अगेंस्ट प्रॉपर्टी (LAP) वेतनभोगी व स्व-व्यवसायी दोनों तरह के लोगों द्वारा विवाह, बच्चों की पढ़ाई, बिज़नेस बढ़ाने, अन्य लोन चुकाने जैसी पसर्नल और बिज़नेस आवश्यकताओं (कल्पित उद्देश्यों के अतिरिक्त) के लिए लिया जा सकता है.

प्रॉपर्टी पर लोन अधिकतम 15 वर्ष की अवधि के लिए या रिटायरमेंट की आयु तक, दोनों में से जो भी कम हो, के लिए लिया जा सकता है.

लोन की सिक्योरिटी, आमतौर पर फाइनेंस की जाने वाली प्रॉपर्टी और/या एच डी एफ सी द्वारा मांगे जा सकने वाले अन्य कोलैटरल/अंतरिम सिक्योरिटी होगी.

हां, पूरी तरह से निर्मित और फ्रीहोल्ड कमर्शियल लोन अगेंस्ट प्रॉपर्टी (LAP) लिया जा सकता है .

आप डॉक्यूमेंट की सूची और लागू शुल्क व प्रभार की जानकारी https://www.hdfc.com/checklist#documents-charges पर देख सकते हैं

यह लोन नए या मौजूदा ​ऑफिस या क्लीनिक की खरीद और ऑफिस या क्लीनिक के विस्तार, सुधार या निर्माण के लिए है. किसी अन्य बैंक/फाइनेंशियल इंस्टीट्यूशन से लिया गया मौजूदा कमर्शियल प्रॉपर्टी लोन भी एच डी एफ सी में ट्रांसफर किया जा सकता है.

स्व-व्यवसायी व्यक्ति जैसे डॉक्टर, वकील, चार्टर्ड अकाउंटेंट और बिज़नेस के मालिक ऑफिस या क्लीनिक की खरीद के लिए कमर्शियल प्रॉपर्टी लोन ले सकते हैं.

कमर्शियल प्रॉपर्टी लोन अधिकतम 15 वर्ष की अवधि के लिए या रिटायरमेंट की आयु तक, दोनों में से जो भी कम हो, के लिए लिया जा सकता है.

आप डॉक्यूमेंट की सूची और लागू शुल्क व प्रभार की जानकारी https://www.hdfc.com/checklist#documents-charges पर देख सकते हैं

यह लोन नए या मौजूदा कमर्शियल प्लॉट की खरीद के लिए प्रदान किया जाता है. किसी अन्य बैंक/फाइनेंशियल इंस्टीट्यूशन से लिया गया मौजूदा कमर्शियल प्रॉपर्टी लोन (प्लॉट) भी एच डी एफ सी में ट्रांसफर किया जा सकता है.

स्व-व्यवसायी व्यक्ति जैसे डॉक्टर, वकील, चार्टर्ड अकाउंटेंट और बिज़नेस के मालिक ऑफिस या क्लीनिक बनाने के लिए कमर्शियल प्रॉपर्टी लोन (प्लॉट) ले सकते हैं.

कमर्शियल प्रॉपर्टी लोन अधिकतम 15 वर्ष की अवधि के लिए या रिटायरमेंट की आयु तक, दोनों में से जो भी कम हो, के लिए लिया जा सकता है.

आप डॉक्यूमेंट की सूची और लागू शुल्क व प्रभार की जानकारी https://www.hdfc.com/checklist#documents-charges पर देख सकते हैं

हां, होम लोन पर लागू ब्याज दर अन्य की तुलना में महिलाओं के लिए कम होती है. लागू होम लोन ब्याज दर में छूट प्राप्त करने के लिए, जिस प्रॉपर्टी के लिए लोन लेना है, महिला को उस प्रॉपर्टी का मालिक/सह-मालिक होना होगा और साथ ही एच डी एफ सी होम लोन में एप्लीकेंट/को-एप्लीकेंट होना होगा.

आमतौर पर भारत में हाउसिंग फाइनेंस संस्थानों द्वारा होम लोन के प्रकार के रूप में निम्न प्रोडक्ट प्रदान किए जाते हैं:

होम लोन

ये लोन निम्न के लिए जाते हैं:

1. अप्रूव्ड प्रोजेक्ट में प्राइवेट डेवलपर्स से फ्लैट, रो हाउस, बंगले की खरीद के लिए;

2. DDA, MHADA और मौजूदा को-ऑपरेटिव हाउसिंग सोसायटी, अपार्टमेंट ओनर्स एसोसिएशन या डेवलपमेंट अथॉरिटी सेटलमेंट जैसी डेवलपमेंट अथॉरिटी से प्रॉपर्टी खरीदने के लिए होम लोन या प्राइवेट रूप से बने घर ;

3. फ्रीहोल्ड/लीज़ होल्ड प्लॉट या डेवलपमेंट अथॉरिटीज़ द्वारा आवंटित प्लॉट पर निर्माण के लिए

प्लॉट की खरीद के लिए लोन

डायरेक्ट अलॉटमेंट या सेकंड सेल ट्रांज़ैक्शन के माध्यम से प्लॉट की खरीद के लिए प्लॉट परचेज़ लोन लिया जा सकता है, इसके साथ ही दूसरे बैंक/फाइनेंशियल इंस्टिट्यूशन से लिए गए मौजूदा प्लॉट परचेज़ लोन को ट्रांसफर भी किया जा सकता है.

बैलेंस ट्रांसफर लोन

दूसरे बैंक/फाइनेंशियल इंस्टिट्यूशन से लिए गए होम लोन की बकाया राशि को एच डी एफ सी में ट्रांसफर करना बैलेंस ट्रांसफर लोन कहलाता है.

हाउस रिनोवेशन लोन

हाउस रेनोवेशन लोन टाइलिंग, फ्लोरिंग, इंटरनल/एक्सटर्नल प्लास्टर और पेंटिंग आदि जैसे कई तरीकों से आपके घर को रिनोवेट करने (स्ट्रक्चर/कार्पेट एरिया में बदलाव किए बिना) के लिए दिया जाने वाला लोन है.

होम एक्सटेंशन लोन

यह लोन अपने घर का विस्तार करने या उसमें रहने की जगह जोड़ने, जैसे अतिरिक्त कमरे या फ्लोर आदि बनाने के लिए है.

होम लोन पर लागू शुल्क की पूरी सूची देखने के लिए, कृपया https://www.hdfc.com/checklist#documents-charges पर जाएं

हां, आप अपने होम लोन में को-एप्लीकेंट के रूप में अपने पति या पत्नी को जोड़ सकते हैं. आपके पति या पत्नी की इनकम को भी होम लोन की पात्रता निर्धारित करने के लिए स्वीकार किया जाएगा, जो कि एच डी एफ सी द्वारा मांगे गए इनकम डॉक्यूमेंट की उपलब्धता के अधीन होगा.

आप प्री-अप्रूव्ड होम लोन के लिए अप्लाई कर सकते हैं, जो आपकी इनकम, क्रेडिट योग्यता और फाइनेंशियल पोजीशन के आधार पर लोन के लिए इन-प्रिंसिपल अप्रूवल है. आमतौर पर, प्रॉपर्टी को चुनने से पहले प्री-अप्रूव्ड लोन लिए जाते हैं और ये लोन की मंजूरी की तिथि से लेकर 6 महीने तक की अवधि के लिए मान्य होते हैं.

होम लोन के लिए को-एप्लीकेंट होना अनिवार्य नहीं है. हालांकि जिस प्रॉपर्टी के लिए होम लोन लिया जाना है, अगर उसका स्वामित्व संयुक्त रूप से है, तो उस प्रॉपर्टी के सभी सह-मालिकों को होम लोन में को-एप्लीकेंट होना होगा. आमतौर पर को-एप्लीकेंट परिवार के करीबी सदस्य होते हैं.

हां, एच डी एफ सी अपने मौजूदा कस्टमर को अपना प्रोविजनल ब्याज स​र्टिफिकेट डाउनलोड करने की सुविधा प्रदान करता है. मौजूदा कस्टमर अपना प्रोविजनल ब्याज सर्टिफिकेट डाउनलोड करने के लिए https://portal.hdfc.com/login/ पर 'ऑनलाइन एक्सेस मॉड्यूल' में लॉन-इन कर सकते हैं.

आप फाइनल फाइनेंशियल वर्ष का अपना अंतिम ब्याज सर्टिफिकेट डाउनलोड करने के लिए https://portal.hdfc.com/login पर 'ऑनलाइन एक्सेस मॉड्यूल' में लॉग-इन कर सकते हैं.

एच डी एफ सी निर्माणाधीन प्रॉपर्टी के लिए लोन का डिस्बर्समेंट, निर्माण की प्रगति के आधार पर किस्तों में करता है. प्रत्येक किस्त के डिस्बर्समेंट को 'पार्ट' या 'सब्सिक्वेंट' डिस्बर्समेंट कहा जाता है.

आप 4 तेज़ और आसान चरणों में एच डी एफ सी होम लोन का ऑनलाइन लाभ उठा सकते हैं:
1. साइन-अप/रजिस्टर करें
2. होम लोन एप्लीकेशन फॉर्म भरें
3. डॉक्यूमेंट अपलोड करें
4. प्रोसेसिंग शुल्क का भुगतान करें
5. लोन अप्रूवल प्राप्त करें

आप होम लोन के लिए ऑनलाइन भी अप्लाई कर सकते हैं. अभी अप्लाई करने के लिए https://portal.hdfc.com/ पर जाएं!.

EMI की शुरुआत, लोन के डिस्बर्समेंट के महीने के बाद के महीने से शुरू होती है. निर्माणाधीन प्रॉपर्टी के लिए लोन की EMI आमतौर पर पूरा होम लोन डिस्बर्स होने के बाद शुरू होती है, लेकिन कस्टमर अपने पहले डिस्बर्समेंट का लाभ लेने के समय से भी EMI देने की शुरुआत कर सकते हैं और हर डिस्बर्समेंट के अनुसार, उसी अनुपात में EMI बढ़ती जाएगी. रीसेल वाले मामले में, लोन की पूरी राशि एक बार में डिस्बर्समेंट होती है और EMI डिस्बर्समेंट के महीने के बाद के महीने से शुरू होती है

आपको लोन की राशि के आधार पर प्रॉपर्टी की कुल लागत का 10-25% 'ओन कॉन्ट्रिब्यूशन' के रूप में भुगतान करना होता है. प्रॉपर्टी की लागत का 75 से 90% होम लोन के रूप में लिया जा सकता है. कंस्ट्रक्शन, होम इम्प्रूवमेंट और होम एक्सटेंशन लोन के मामले में, कंस्ट्रक्शन/इम्प्रूवमेंट/एक्सटेंशन एस्टिमेट का 75 से 90% तक फंड किया जा सकता है.

होम लोन का पुनर्भुगतान इक्वेटेड मंथली इंस्टॉलमेंट (EMI) के माध्यम से किया जाता है. EMI में मूलधन और ब्याज शामिल होते हैं, जो इस तरह से व्यवस्थित होता हैं कि आपके लोन के शुरुआती वर्षों में, ब्याज का हिस्सा मूलधन से अधिक होता है, जबकि लोन की आधी अवधि बीत जाने के बाद मूलधन का हिस्सा ब्याज से काफी अधिक हो जाता है.

प्रधानमंत्री आवास योजना (PMAY) (शहरी)-सभी के लिए आवास एक ऐसा मिशन है जिसे भारत सरकार द्वारा गृह स्वामित्व को बढ़ावा देने के उद्देश्य से शुरू किया गया था. शहरीकरण की अनुमानित वृद्धि और और इसके परिणामस्वरूप उत्पन्न होने वाले घरों की आवश्यकताओं को ध्यान में रखकर PMAY स्कीम आर्थिक कमजोर वर्ग (EWS)/कम आय वर्ग (LIG) और समाज के मध्यम आय वर्ग (MIG) की ओर केंद्रित की गई है.
लाभ:
PMAY के तहत क्रेडिट लिंक्ड सब्सिडी स्कीम (CLSS) होम लोन को किफायती बनाती हैं क्योंकि होम लोन पर ब्याज पर दी गई सब्सिडी से कस्टमर के वहन का बोझ कम होता है. इस स्कीम के तहत दी जाने वाली सब्सिडी कस्टमर की इनकम श्रेणी और फाइनेंस होने वाली प्रॉपर्टी के साइज पर निर्भर करती है.

आमतौर पर भारत में होम लोन प्रोसेस में निम्न चरण शामिल हैं:

होम लोन एप्लीकेशन और डॉक्यूमेंटेशन

आप एच डी एफ सी की ऑनलाइन एप्लीकेशन सुविधा के साथ अपने घर के आराम से होम लोन के लिए ऑनलाइन अप्लाई कर सकते हैं. वैकल्पिक रूप से, आप हमारे लोन विशेषज्ञ से संपर्क करने और अपने लोन एप्लीकेशन को आगे बढ़ाने के लिए यहां अपना संपर्क विवरण शेयर कर सकते हैं.

अपने होम लोन एप्लीकेशन फॉर्म के साथ जमा किए जाने वाले आवश्यक डॉक्यूमेंट की जानकारी यहां उपलब्ध है. इस लिंक से आपको होम लोन एप्लीकेशन को प्रोसेस करने के लिए, आवश्यक KYC, इनकम और प्रॉपर्टी से संबंधित डॉक्यूमेंट चेकलिस्ट की विस्तृत जानकारी मिलेगी. चेकलिस्ट सांकेतिक है और होम लोन अप्रूवल प्रोसेस के दौरान अतिरिक्त डॉक्यूमेंट मांगे जा सकते हैं.

होम लोन का अप्रूवल और डिस्बर्समेंट

अप्रूवल प्रोसेस: ऊपर दी गई चेकलिस्ट के अनुसार सबमिट किए गए डॉक्यूमेंट के आधार पर होम लोन का आकलन किया जाता है और अप्रूव्ड राशि कस्टमर को बताई जाती है. अप्लाई की गई हाउसिंग लोन राशि और अप्रूव्ड राशि के बीच अंतर हो सकता है. हाउसिंग लोन के अप्रूवल पर, लोन राशि, अवधि, लागू ब्याज दर, पुनर्भुगतान विधि और एप्लीकेंट द्वारा पूरी की जाने वाली अन्य विशेष शर्तों का विवरण देने वाला एक सैंक्शन लेटर जारी किया जाता है.

डिस्बर्समेंट प्रोसेस: एच डी एफ सी को प्रॉपर्टी से संबंधित ओरिजिनल डॉक्यूमेंट सबमिट करने के बाद होम लोन डिस्बर्समेंट प्रोसेस शुरू होता है. अगर प्रॉपर्टी का कंस्ट्रक्शन हो रहा है, तो डेवलपर द्वारा प्रदान किए गए कंस्ट्रक्शन लिंक्ड पेमेंट प्लान के अनुसार, डिस्बर्समेंट कई भागों में किया जाता है. कंस्ट्रक्शन/होम इम्प्रूवमेंट/होम एक्सटेंशन लोन के मामले में, प्रदान किए गए एस्टिमेट के अनुसार, कंस्ट्रक्शन/इम्प्रूवमेंट की प्रगति के अनुसार डिस्बर्समेंट किया जाता है. सेकेंड सेल/रीसेल प्रॉपर्टी के लिए सेल डीड के निष्पादन के समय पूरी लोन राशि प्रदान की जाती है.

होम लोन का पुनर्भुगतान

होम लोन का रीपेमेंट समान मासिक किश्तों (EMI) के माध्यम से किया जाता है, जो ब्याज और मूलधन का मिश्रण होते है. रीसेल घरों के लोन के मामले में, EMI राशि के डिस्बर्समेंट के अगले महीने से शुरू होती हैं. निर्माणाधीन प्रॉपर्टी के लोन के मामले में, आमतौर पर निर्माण पूरा होने के बाद EMI शुरू होती है, तब तक लोन राशि पूरी तरह से डिस्बर्स हो जाती है. लेकिन, कस्टमर अपनी EMI को जल्दी शुरू करने का विकल्प चुन सकते हैं. निर्माण की प्रगति के अनुसार किए गए हर आंशिक डिस्बर्समेंट के साथ थी EMI की राशि भी बढ़ती जाएगी.

 

अधिकतम रीपेमेंट अवधि, आपके हाउसिंग लोन के प्रकार, आपकी प्रोफाइल, इनकम, लोन की मेच्योरिटी आदि बातों पर निर्भर करती है.

होम लोन और बैलेंस ट्रांसफर लोन के लिए, अधिकतम अवधि है 30 वर्ष या रिटायरमेंट की आयु तक, जो भी पहले आए.

होम एक्सटेंशन लोन के लिए, अधिकतम अवधि है 20 वर्ष या रिटायरमेंट की आयु तक, जो भी पहले आए.

होम रेनोवेशन और टॉप-अप लोन के लिए, अधिकतम अवधि है 15 वर्ष या रिटायरमेंट की आयु तक, जो भी पहले आए.

प्रॉपर्टी के सभी सह-मालिकों को घर के लोन का को-एप्लीकेंट होना चाहिए. आमतौर पर, को-एप्लीकेंट घनिष्ठ परिवार के सदस्य होते हैं.

आपकी हाउसिंग लोन की ब्याज दर, आपके द्वारा चुने गए लोन के प्रकार पर निर्भर करती है. लोन दो प्रकार के होते हैं:

एडजस्टेबल रेट या फ्लोटिंग रेट

एडजस्टेबल या फ्लोटिंग रेट लोन में, आपके लोन की ब्याज दर आपके लेंडर की बेंचमार्क दर से लिंक होती है. बेंचमार्क दर में कोई भी उतार-चढ़ाव आपकी लागू ब्याज दर पर आनुपातिक रूप से प्रभाव डालता है. ब्याज दरें निश्चित अंतराल पर रीसेट की जाती हैं. यह रीसेट, फाइनेंशियल कैलेंडर के अनुसार हो सकता है, या डिस्बर्समेंट की पहली तिथि के आधार पर, प्रत्येक कस्टमर के लिए अलग-अलग हो सकता है. एच डी एफ सी के पास, लोन एग्रीमेंट के प्रभावी रहने के दौरान कभी भी अपने विवेकाधिकार से, भावी रूप से, ब्याज दर रीसेट साइकल को बदलने का अधिकार है.

कॉम्बिनेशन लोन

कॉम्बिनेशन लोन आंशिक रूप से फिक्स्ड और आंशिक रूप से फ्लोटिंग होता है. फिक्स्ड रेट की अवधि के बाद, लोन एडजस्टेबल रेट में परिवर्तित हो जाता है.

होम लोन EMI कैलकुलेटर के लाभ इस प्रकार हैं-

आपके फाइनेंस को पहले से प्लान करने में मदद करता है

EMI कैलकुलेटर की मदद से आप अपने नकदी प्रवाह को काफी पहले से प्लान कर सकते हैं, ताकि जब भी आपको होम लोन मिले, आप उसका भुगतान आसानी से कर सकें. दूसरे शब्दों में, EMI कैलकुलेटर आपकी फाइनेंशियल प्लानिंग और लोन सर्विसिंग आवश्यकताओं के लिए एक उपयोगी टूल है.

इस्तेमाल करने में आसान

EMI कैलकुलेटर बहुत सरल होते हैं और उनका इस्तेमाल करना आसान होता है. आपको केवल तीन इनपुट वैल्यू प्रदान करनी होती है, जो हैं:

a. लोन राशि
b. ब्याज दर
c. अवधि

इन तीन इनपुट वैल्यू के आधार पर, EMI कैलकुलेटर आपके द्वारा होम लोन प्रदाता को हर महीने भुगतान की जाने वाली मासिक किश्त की गणना करेगा. कुछ होम लोन EMI कैलकुलेटर पूरी लोन अवधि के दौरान आपके द्वारा चुकाए जाने वाले ब्याज और मूल धन का विस्तृत ब्रेकअप भी प्रदान करते हैं.

प्रॉपर्टी की खोज पर ध्यान केंद्रित करने में मदद करता है

EMI कैलकुलेटर आपकी फाइनेंशियल स्थिति के लिए सबसे उपयुक्त लोन EMI और अवधि को चुनने में आपकी मदद करता है, जिससे आप अपने मासिक बजट में बेस्ट फिट होने वाली सही होम लोन राशि निर्धारित कर सकते हैं. यह आपको अपनी प्रॉपर्टी की खोज पर अधिक ध्यान केंद्रित करने में मदद करता है

आसान एक्सेस

ऑनलाइन EMI कैलकुलेटर को कहीं से भी आसानी से ऑनलाइन एक्सेस किया जा सकता है. आप अपनी ज़रूरतों के अनुसार सही होम लोन राशि, EMI और अवधि निर्धारित करने के लिए जितनी चाहें उतनी बार विभिन्न इनपुट कॉम्बिनेशन दर्ज कर सकते हैं.

आप मुंबई, दिल्ली, बेंगलुरु, चेन्नई, हैदराबाद, पुणे, जयपुर जैसे शहरों में अपने सपनों का घर खरीदने के लिए होम लोन ले सकते हैं.

हां. आप एक ही समय पर दो होम लोन का लाभ उठा सकते हैं. हालांकि, आपके लोन का अप्रूवल आपकी रीपेमेंट क्षमता पर निर्भर करता है. दो होम लोन के लिए EMI का रीपेमेंट करने की आपकी पात्रता और क्षमता का आकलन एच डी एफ सी द्वारा किया जाएगा.

नहीं, आपको अपने होम लोन के लिए गारंटर की आवश्यकता नहीं है. आपको केवल कुछ स्थितियों में गारंटर की आवश्यकता हो सकती है, यानी:

  • जब मुख्य एप्लीकेंट की फाइनेंशियल स्थिति कमज़ोर होती है
  • जब एप्लीकेंट अपनी पात्रता से ज़्यादा राशि उधार लेना चाहता है.
  • जब एप्लीकेंट पात्र न्यूनतम इनकम मानदंड से कम अर्जित करता है.

होम लोन प्रोविज़नल सर्टिफिकेट, एक फाइनेंशियल वर्ष के दौरान अपने होम लोन के लिए आपके द्वारा चुकाए गए ब्याज और मूलधन की समरी है. यह आपको एच डी एफ सी द्वारा प्रदान किया जाता है और यह टैक्स कटौती के लिए क्लेम करने के लिए आवश्यक होता है. यदि आप मौजूदा कस्टमर हैं, तो आप अपना होम लोन प्रोविज़नल सर्टिफिकेट यहां से आसानी से डाउनलोड कर सकते हैंः ऑनलाइन पोर्टल .

प्री-EMI, आपके होम लोन पर ब्याज का मासिक भुगतान है. इस राशि का भुगतान लोन के पूरे डिस्बर्समेंट तक की अवधि के दौरान किया जाता है. प्री-EMI का चरण समाप्त होने के बाद यानी लोन पूरी तरह से डिस्बर्स हो जाने के बाद, आपकी वास्तविक लोन अवधि - और EMI (मूलधन और ब्याज दोनों को मिलाकर) के लिए भुगतान शुरू होता है.

होम लोन के लिए आपकी पात्रता निर्धारित करने वाले कुछ कारक हैं:

  • इनकम और रीपेमेंट की क्षमता
  • आयु
  • फाइनेंशियल प्रोफाइल
  • क्रेडिट इतिहास
  • क्रेडिट स्कोर
  • मौजूदा क़र्ज़/EMI

हां. आप अपनी लोन की वास्तविक अवधि पूरी होने से पहले अपने होम लोन का प्री-पेमेंट (पार्ट या फुल में) कर सकते हैं. कृपया ध्यान दें कि फ्लोटिंग दर के होम लोन पर तब तक कोई प्रीपेमेंट शुल्क नहीं लगता है, जब तक कि बिज़नेस के उद्देश्यों के लिए इसका इस्तेमाल न किया जाए.

नहीं. होम लोन इंश्योरेंस अनिवार्य नहीं है. हालांकि, यह सलाह दी जाती है कि आप किसी भी अप्रत्याशित परिस्थिति से सुरक्षा के लिए इंश्योरेंस खरीदें.

हां. आप इनकम टैक्स एक्ट, 1961 के सेक्शन 80C, 24(b) और 80EEA के तहत, अपने होम लोन के मूलधन और ब्याज के रीपेमेंट पर टैक्स लाभ के लिए पात्र हो सकते हैं. क्योंकि लाभ हर वर्ष बदल सकते हैं, इसलिए कृपया लेटेस्ट जानकारी के लिए अपने चार्टर्ड अकाउंटेंट/टैक्स एक्सपर्ट से परामर्श करें.

तकनीकी रूप से प्रॉपर्टी का मूल्यांकन होने के बाद, लीगल डॉक्यूमेंटेशन प्रोसेस पूरा होने के बाद और आपके द्वारा डाउन पेमेंट करने के बाद, आप अपने होम लोन का डिस्बर्समेंट प्राप्त कर सकते हैं.

आप हमारे किसी भी ऑफिस में जाकर या ऑनलाइन विकल्प के माध्यम से अपने लोन के डिस्बर्समेंट के लिए अनुरोध कर सकते हैं.

हमारे एच डी एफ सी रीच लोन माइक्रो-एंटरप्रेन्योर और वेतनभोगी व्यक्तियों के लिए घर खरीदना संभव बनाते हैं, जिनके पास इनकम डॉक्यूमेंटेशन के लिए कम प्रमाण हो सकते हैं. आप एच डी एफ सी रीच के साथ न्यूनतम इनकम डॉक्यूमेंटेशन के साथ हाउस लोन के लिए अप्लाई कर सकते हैं.

होम लोन एक प्रकार का सेक्योर्ड लोन है जो कस्टमर द्वारा घर खरीदने के लिए लिया जाता है. यह प्रॉपर्टी डेवलपर द्वारा बनाई जा रही या तैयार प्रॉपर्टी या रीसेल प्रॉपर्टी हो सकती है, भूमि पर हाउसिंग यूनिट बनाने के लिए, मौजूदा घर में सुधार और विस्तार करने के लिए, किसी एक वित्तीय संस्थान से अपने मौजूदा होम लोन को एच डी एफ सी में ट्रांसफर करने के लिए, इस लोन राशि का उपयोग किया जा सकता है. इक्वेटेड मंथली इंस्टॉलमेंट (EMI) के माध्यम से हाउसिंग लोन का पुनर्भुगतान किया जाता है, जिसमें उधार ली गई मूल राशि और उस पर प्राप्त ब्याज शामिल होता है.

होम लोन की पात्रता व्यक्ति की आय और पुनर्भुगतान क्षमता पर निर्भर करती है. कृपया होम लोन पात्रता मानदंड के बारे में जानकारी प्राप्त करें:

विवरण वेतनभोगी व्यक्ति स्व-व्यवसायी व्यक्ति
आयु 21साल से 65साल तक 21साल से 65साल तक
न्यूनतम आय रु. 10,000 प्रति माह. रु. 2 लाख प्रति वर्ष.