अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न (FAQ)

हमें अपनी लोन की आवश्यकताओं के बारे में बताएं

मेरी रेजिडेंशियल स्थिति

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

मुख्य रूप से हम आपकी होम लोन की पात्रता, आपकी इनकम और रीपेमेंट क्षमता द्वारा निर्धारित करेंगे. अन्य महत्वपूर्ण कारकों में आपकी आयु, शैक्षिक योग्यता, आश्रितों की संख्या, आपके पति/पत्नी की इनकम (अगर हो), एसेट और देनदारी, सेविंग का विवरण और व्यवसाय की स्थिरता और निरंतरता शामिल हैं.

EMI, 'इकुएटिड मंथली इंस्टॉलमेंट' को कहा जाता है, यह वह राशि है जिसका भुगतान आप हमें हर महीने एक विशिष्ट तिथि को करेंगे, जब तक कि आपके पूरे लोन का भुगतान नहीं हो जाता है. EMI में मूलधन और ब्याज शामिल होते हैं, जो इस तरह से व्यवस्थित होता हैं कि आपके लोन के शुरुआती वर्षों में, ब्याज का हिस्सा मूलधन से अधिक होता है, जबकि लोन की आधी अवधि बीत जाने के बाद मूलधन का हिस्सा ब्याज से काफी अधिक हो जाता है.

‘एच डी एफ सी लोन को घटाने के बाद बचे प्रॉपर्टी के कुल मूल्य को 'ओन कॉन्ट्रीब्यूशन' कहा जाता है.

आपकी सुविधा के लिए, एच डी एफ सी विभिन्न प्रकार के लोन रीपेमेंट मोड ऑफर करता है. आप ECS (इलेक्ट्रॉनिक क्लीयरिंग सिस्टम) के माध्यम से किस्त देने के लिए अपने बैंकर को स्थायी दिशानिर्देश दे सकते हैं, अपने नियोक्ता द्वारा मासिक किस्त कटवाने का विकल्प चुन सकते हैं या अपने सैलरी अकाउंट से पोस्ट-डेटेड चेक जारी कर सकते हैं.

अगर आप कोई प्रॉपर्टी खरीदने या उसका निर्माण करने का फैसला कर लें, तो आप किसी भी समय होम लोन के लिए अप्लाई कर सकते हैं, चाहे आपने प्रॉपर्टी का चयन या निर्माण कार्य शुरू न भी किया हो.

मार्किट वैल्यू का मतलब वह राशि, जो मार्किट की मौजूदा स्थितियों के हिसाब से, प्रॉपर्टी को बेचने पर प्राप्त होने की उम्मीद है.

आप हमारे नज़दीकी ऑफिस से एक एप्लीकेशन फॉर्म ले सकते हैं या इसे हमारी वेबसाइट से डाउनलोड कर सकते हैं और सहायक डॉक्यूमेंट और प्रोसेसिंग फीस के चेक के साथ किसी भी एच डी एफ सी ऑफिस में, जो आपके लिए सुविधाजनक हो, स्वयं जमा करवा सकते हैं. वैकल्पिक रूप से आप दुनिया में कहीं से भी हमारी वेबसाइट पर जाकर 'इंस्टेंट होम लोन’ पर क्लिक करके ऑनलाइन एप्लीकेशन दे सकते हैं और अपनी होम लोन की पात्रता तुरंत जान सकते हैं.

हां. आप इनकम टैक्स एक्ट, 1961 के तहत, आप अपने होम लोन के मूलधन और ब्याज पर टैक्स लाभ प्राप्त पर सकते हैं. चूंकि लाभ हर वर्ष बदल सकते हैं, यह जानने के लिए कि आप अपने लोन पर कैसे टैक्स लाभ प्राप्त कर सकते हैं, कृपया हमारे लोन काउंसलर के साथ बात करें.

लोन की सिक्योरिटी, आमतौर पर फाइनेंस की जाने वाली प्रॉपर्टी और/या एच डी एफ सी द्वारा मांगे जा सकने वाले अन्य कोलैटरल/अंतरिम सिक्योरिटी होगी.

आपके लिए यह सुनिश्चित करना अत्यंत महत्वपूर्ण है कि प्रॉपर्टी का अधिकार स्पष्ट हो, वह बेचने योग्य हो और किसी भी प्रकार के लोन से मुक्त हो. कोई भी मौजूदा बंधन, लोन या मुकदमा नहीं होना चाहिए, जो प्रॉपर्टी के अधिकार पर प्रतिकूल प्रभाव डालता हो.

जिस महीने आपको पूरा लोन डिस्बर्स हो जाता है, उसके अगले महीने से मूलधन का रीपेमेंट शुरू होता है. जब तक अंतिम डिस्बर्समेंट बाकी रहता हो, आप लोन के डिस्बर्स हो चुके हिस्से पर ब्याज का भुगतान करते हैं. इस ब्याज को प्री-EMI इंटरेस्ट कहा जाता है. हर डिस्बर्समेंट की तारीख से EMI शुरू होने की तारीख तक, प्री-EMI इंटरेस्ट हर महीने देना होता है.

निर्माणाधीन प्रॉपर्टी के मामले में, एच डी एफ सी 'ट्रांचिंग' नामक विशिष्ट सुविधा प्रदान करता है, जिसमें आप प्रॉपर्टी के पज़ेशन के लिए तैयार होने तक, आपके द्वारा दी जाने वाली किस्त को चुन सकते हैं. आपके द्वारा ब्याज की राशि से अधिक जितनी भी राशि जमा करवाई जाएगी, वह मूलधन राशि की रीपेमेंट के रूप में जमा हो जाएगी, इससे आपको लोन की रीपेमेंट जल्दी करने में मदद मिलेगी. खासतौर पर, यह उन मामले में फायदेमंद है, जिनमें डिस्बर्समेंट के बीच का अंतराल अधिक होने की अपेक्षा होती है.

प्राॅपर्टी के ट्रांज़ैक्शन में 'एग्रीमेंट टू सेल' खरीदार और विक्रेता के बीच स्टाम्प पेपर पर लिखित में किया गया वह समझौता होता है, जो कानूनी रूप से मान्य होता है इस पर प्राॅपर्टी की सभी जानकारी जैसे क्षेत्र, कब्जे की तिथि और कीमत आदि उल्लिखित होती है.

कई भारतीय राज्यों में, बेचने के लिए किए एग्रीमेंट को कानून द्वारा रजिस्टर करना आवश्यक है. हमारा सुझाव है कि आपको इंडियन रजिस्ट्रेशन एक्ट, 1908 के तहत राज्य सरकार द्वारा नियुक्त सब-रजिस्ट्रार के ऑफिस में एग्रीमेंट की तिथि के चार महीने के भीतर एग्रीमेंट को रजिस्टर करवाना चाहिए.

किसी प्रॉपर्टी पर भार होने का मतलब है उस प्रॉपर्टी पर कोई कर्ज़, जैसे कि न चुकाए गए लोन और बिल, की वजह से क्लेम या शुल्क का होना. यह महत्वपूर्ण है कि आप अपने लिए घर की खोज करते हुए उस प्रॉपर्टी को देखें, जो हर प्रकार के भार से मुक्त हो.

हां, आप 'होम कन्वर्ज़न लोन' को चुन सकते हैं जिससे आपके मौजूदा लोन (जिसे आपने अपना वर्तमान घर खरीदने के लिए लिया था) को नए घर में, नए घर की बढ़ी हुई लागत के हिसाब से, अतिरिक्त धन के साथ ट्रांसफर किया जा सकता है, जो आपकी लोन पात्रता के अनुसार होगा. इसका मतलब यह है कि आप अपने मौजूदा लोन को प्री-पे करने की परेशानी के बिना अपने नए घर में जा सकते हैं.

हां, किसी दूसरे बैंक/हाउसिंग फाइनेंस कंपनी या अपने नियोक्ता से लिए गए होम लोन के भुगतान हेतु आप हमारे यहां लोन के लिए अप्लाई कर सकते हैं. कृपया 'बैलेंस ट्रांसफर' के बारे में अधिक जानने के लिए हमारे नज़दीकी ऑफिस से संपर्क करें.

निर्माणाधीन प्रॉपर्टी का मतलब कोई ऐसा घर, जिसका निर्माण कार्य चल रहा है और खरीदार को उसका पज़ेशन भविष्य की किसी तिथि को दिया जाएगा.

प्रॉपर्टी का तकनीकी रूप से मूल्यांकन हो जाने पर, कानूनी डॉक्यूमेंटेशन प्रक्रिया पूरी होने और आपके द्वारा पूरा ओन कॉन्ट्रीब्यूशन इन्वेस्ट करने के बाद आप लोन का डिस्बर्समेंट प्राप्त कर सकते हैं. आप हमारे किसी भी ऑफिस में जाकर या फिर 'मौजूदा कस्टमर के लिए ऑनलाइन एक्सेस' विकल्प के माध्यम से लॉग-इन करके अपने लोन के डिस्बर्समेंट का अनुरोध कर सकते हैं.

डिस्बर्समेंट के लिए आपका अनुरोध प्राप्त करने के बाद, हम लोन को पूर्ण रूप से या किस्तों में डिस्बर्स करेंगे, जो आमतौर पर तीन से अधिक नहीं होती. निर्माणाधीन प्रॉपर्टी के मामले में, हम आपके लोन को निर्माण की प्रगति के आधार पर किस्तों में डिस्बर्स करेंगे, इसका आकलन हमारे द्वारा किया जाएगा और जरूरी नहीं कि वह डेवलपर के एग्रीमेंट के अनुसार हो. आपके हित में आपको यह सलाह दी जाती है कि आप डेवलपर के साथ एक ऐसा एग्रीमेंट करें जिसमें भुगतान, निर्माण कार्य के अनुसार हो, न कि समय के आधार पर पहले से ही निश्चित हो.

हां, आप मौजूदा प्रीपेमेंट शुल्क के अनुसार एकमुश्त राशि का भुगतान करके निर्धारित समय से पहले लोन चुका सकते हैं, यह भुगतान एक बार में या आंशिक रूप से किया जा सकता है. हम 'एक्सेलेरेटेड रीपेमेंट स्कीम' के तहत आपके लोन के रीपेमेंट में तेजी लाने के लिए निःशुल्क सुविधा प्रदान करते हैं. इस विकल्प में आप अपनी बढ़ती सैलरी के साथ, हर वर्ष अपनी EMI भी बढ़ा सकते हैं, जिससे आपके लोन का भुगतान और भी जल्द हो जाएगा.

हां, आपको यह सुनिश्चित करना होगा कि आपकी प्रॉपर्टी का विधिवत रूप से लोन की लंबित अवधि के दौरान आग लगने और अन्य संभावी खतरों के लिए इंश्योरेंस करवाया गया हो. आपको प्रत्येक वर्ष और/या जब भी कहा जाए, एच डी एफ सी को इसका प्रमाण भी प्रस्तुत करना होगा. इंश्योरेंस पॉलिसी का लाभार्थी एच डी एफ सी होना चाहिए.

इनकम टैक्स एक्ट, 1961, के अध्याय XX C के संदर्भ में, एक खास कीमत से अधिक कीमत की अचल प्रॉपर्टी को खरीदने का प्रथम अधिकार केंद्र सरकार के पास है. इसलिए इस अध्याय के अंतर्गत आने वाली किसी भी ट्रांजैक्शन को केवल अध्याय में दी गई मांगों का अनुपालन करने के बाद ही किया जा सकता है.

दूसरे बैंक/फाइनेंशियल इंस्टीट्यूशन से लिए गए होम लोन की बकाया राशि को एच डी एफ सी में ट्रांसफर करना बैलेंस ट्रांसफर लोन कहलाता है.

कोई भी बॉरोअर, जिसके पास दूसरे बैंक/HFI का मौजूदा होम लोन है और उसके 12 महीने के नियमित भुगतान का ट्रैक है, एच डी एफ सी से बैलेंस ट्रांसफर लोन ले सकता है.

एच डी एफ सी के 'टेलीस्कोपिक रीपेमेंट विकल्प', बैलेंस ट्रांसफर लोन अधिकतम 30 वर्ष की अवधि के लिए या रिटायरमेंट की आयु तक, दोनों में से जो भी कम हो, के लिए लिया जा सकता है.

बैलेंस ट्रांसफर लोन की ब्याज दर, होम लोन की ब्याज दर से अलग नहीं होती है.

हां. इनकम टैक्स एक्ट, 1961 के तहत, आप अपने बैलेंस ट्रांसफर लोन के मूलधन और ब्याज पर टैक्स लाभ प्राप्त पर सकते हैं. चूंकि लाभ हर वर्ष बदल सकते हैं, इसलिए यह जानने के लिए कि आप अपने लोन पर टैक्स लाभ कैसे प्राप्त कर सकते हैं, हमारे लोन काउंसलर से बात करें.

हां. एच डी एफ सी से बैलेंस ट्रांसफर लोन के साथ ₹50 लाख तक का टॉप अप लोन भी लिया जा सकता है.

बैलेंस ट्रांसफर लोन के लिए, आप डॉक्यूमेंट, शुल्क व प्रभार की सूची https://www.hdfc.com/checklist#documents-charges पर देख सकते हैं

हां, जिन्होंने निर्माणाधीन प्रॉपर्टी खरीदी है, वे कस्टमर एच डी एफ सी से बैलेंस ट्रांसफर लोन ले सकते हैं.

यह लोन घर को रिनोवेट करने (ढांचे/कारपेट एरिया से छेड़छाड़ किए बिना) जैसे टाइल लगवाना, फर्श बनवाना, अंदर/बाहर के हिस्से का प्लास्टर और पेंटिंग करवाना आदि के लिए दिया जाता है.

कोई भी व्यक्ति जो अपने अपार्टमेंट/फ्लोर/रो हाउस की रिनोवेशन कराना चाहता है. मौजूदा होम लोन कस्टमर भी होम इम्प्रूवमेंट लोन ले सकते हैं.

होम इम्प्रूवमेंट लोन अधिकतम 15 वर्ष की अवधि के लिए या रिटायरमेंट की आयु तक, दोनों में से जो भी कम हो, के लिए लिया जा सकता है.

होम इम्प्रूवमेंट लोन की ब्याज दर, होम लोन की ब्याज दर से अलग नहीं होती है.

होम इम्प्रूवमेंट लोन से केवल अचल फर्नीचर और फिक्स्चर ही खरीदे जा सकते हैं

हां. इनकम टैक्स एक्ट, 1961 के तहत, आप अपने होम इम्प्रूवमेंट लोन के मूलधन पर टैक्स लाभ प्राप्त पर सकते हैं. चूंकि लाभ हर वर्ष बदल रहते हैं, इसलिए आप अपने लोन पर टैक्स लाभ कैसे प्राप्त करें यह जानने के लिए हमारे लोन काउंसलर से बातचीत कर सकते हैं.

लोन की सिक्योरिटी, आमतौर पर फाइनेंस की जाने वाली प्रॉपर्टी और/या एच डी एफ सी द्वारा मांगे जा सकने वाले अन्य कोलैटरल/अंतरिम सिक्योरिटी होगी.

प्रॉपर्टी का तकनीकी रूप से मूल्यांकन हो जाने पर, कानूनी डॉक्यूमेंटेशन प्रक्रिया पूरी होने और आपके द्वारा पूरा ओन कॉन्ट्रीब्यूशन इन्वेस्ट करने के बाद आप लोन का डिस्बर्समेंट प्राप्त कर सकते हैं.

एच डी एफ सी द्वारा आंकी गई निर्माण/रिनोवेशन की प्रगति के आधार पर एच डी एफ सी आपके होम इम्प्रूवमेंट लोन को किस्तों में डिस्बर्स करेगा.

आप आवश्यक डॉक्यूमेंट की सूची और लागू शुल्क व प्रभार की जानकारी https://www.hdfc.com/checklist#documents-charges पर देख सकते हैं

यह लोन अपने घर को बढ़ाने या उसमें रहने की जगह जोड़ने, जैसे अतिरिक्त कमरे या फ्लोर आदि बनाने के लिए है.

अपने मौजूदा अपार्टमेंट/फ्लोर/रो हाउस में अतिरिक्त स्थान जोड़ने के इच्छुक व्यक्ति एच डी एफ सी के होम एक्सटेंशन लोन की सुविधा का लाभ उठा सकते हैं. मौजूदा होम लोन कस्टमर भी होम एक्सटेंशन लोन ले सकते हैं.

होम एक्सटेंशन लोन अधिकतम 20 वर्ष की अवधि के लिए या रिटायरमेंट की आयु तक, दोनों में से जो भी कम हो, के लिए लिया जा सकता है.

होम एक्सटेंशन लोन की ब्याज दर, होम लोन की ब्याज दर से अलग नहीं होती है.

हां. इनकम टैक्स एक्ट, 1961 के तहत, आप अपने होम एक्सटेंशन लोन के मूलधन और ब्याज पर टैक्स लाभ प्राप्त पर सकते हैं. चूंकि लाभ हर वर्ष बदल सकते हैं, इसलिए यह जानने के लिए कि आप अपने लोन पर टैक्स लाभ कैसे प्राप्त कर सकते हैं, हमारे लोन काउंसलर से बात करें.

लोन की सिक्योरिटी, आमतौर पर फाइनेंस की जाने वाली प्रॉपर्टी और/या एच डी एफ सी द्वारा मांगे जा सकने वाले अन्य कोलैटरल/अंतरिम सिक्योरिटी होगी.

एच डी एफ सी द्वारा आंकी गई निर्माण/रिनोवेशन की प्रगति के आधार पर एच डी एफ सी आपके होम एक्सटेंशन लोन की किस्त को डिस्बर्स करेगा.

आप आवश्यक डॉक्यूमेंट की सूची और लागू शुल्क व प्रभार की जानकारी https://www.hdfc.com/checklist#documents-charges पर देख सकते हैं

टॉप-अप लोन का लाभ पर्सनल और प्रोफेशनल दोनों तरह की जरूरतों (कल्पित उद्देश्यों के अलावा) जैसे शादी, बच्चों की पढ़ाई, बिज़नेस एक्सपेंशन, अन्य लोन चुकाने आदि के लिए उठाया जा सकता है.

मौजूदा होम लोन, होम इम्प्रूवमेंट लोन या होम एक्सटेंशन लोन के सभी कस्टमर टॉप-अप लोन ले सकते हैं. हमारे बैलेंस ट्रांसफर लोन लेने वाले नए कस्टमर भी एच डी एफ सी से अतिरिक्त रूप से टॉप अप लोन ले सकते हैं. आप अपने मौजूदा होम लोन के अंतिम डिस्बर्समेंट के 12 महीनों बाद और पज़ेशन/मौजूदा फाइनेंस प्रॉपर्टी के पूरा होने पर टॉप अप लोन के लिए अप्लाई कर सकते हैं.

अधिकतम टॉप-अप लोन जो आप ले सकते हैं, वह आपके सभी मूल होम लोन के लिए स्वीकृत लोन राशि के बराबर हो, या ₹ 50 लाख, जो भी कम हो. यह संचयी बकाया लोन के अधीन है और टॉप अप में संचयी जोखिम के लिए 80% के अधिकतम सीमा से अधिक नहीं होने की पेशकश की जा रही है 75 लाख और 75% अगर संचयी जोखिम रुपये से अधिक है तो गिरवी रखी गई संपत्ति के बाजार मूल्य का 75 लाख होगा, जैसा कि HDFC द्वारा मूल्यांकन किया गया है.

टॉप अप लोन अधिकतम 15 वर्ष की अवधि के लिए या रिटायरमेंट की आयु तक, दोनों में से जो भी कम हो, के लिए लिया जा सकता है.

लोन की सिक्योरिटी, आमतौर पर फाइनेंस की जाने वाली प्रॉपर्टी और/या एच डी एफ सी द्वारा मांगे जा सकने वाले अन्य कोलैटरल/अंतरिम सिक्योरिटी होगी.

हां. एच डी एफ सी से बैलेंस ट्रांसफर लोन के साथ टॉप अप लोन भी लिया जा सकता है

आप डॉक्यूमेंट की सूची और लागू शुल्क व प्रभार की जानकारी https://www.hdfc.com/checklist#documents-charges पर देख सकते हैं

यह पूरी तरह से निर्मित, रेजिडेंशियल और कमर्शियल प्रॉपर्टी पर लिया जाने वाला लोन है: जो विवाह, चिकित्सकीय खर्च और बच्चों की पढ़ाई आदि जैसी पसर्नल और बिज़नेस आवश्यकताओं (कल्पित उद्देश्यों के अतिरिक्त) के लिए लिया जा सकता है; किसी दूसरे बैंक और फाइनेंशियल इंस्टीट्यूशन से लिए गए अपने मौजूदा लोन अगेंस्ट प्रॉपर्टी (LAP) को एच डी एफ सी में ट्रांसफर कर सकते हैं.

मौजूदा कस्टमर के लिए, सभी मौजूदा लोन का बकाया मूलधन और प्रॉपर्टी पर लोन संचयी रूप से, एच डी एफ सी द्वारा असेस किए गए बंधक प्रॉपर्टी के बाजार मूल्य के 60% से अधिक नहीं होना चाहिए. नए कस्टमर के लिए, आमतौर पर प्रॉपर्टी पर लोन एच डी एफ सी द्वारा असेस किए गए प्रॉपर्टी के बाजार मूल्य के 50% से अधिक नहीं होना चाहिए.

लोन अगेंस्ट प्रॉपर्टी (LAP) वेतनभोगी व स्व-व्यवसायी दोनों तरह के लोगों द्वारा विवाह, बच्चों की पढ़ाई, बिज़नेस बढ़ाने, अन्य लोन चुकाने जैसी पसर्नल और बिज़नेस आवश्यकताओं (कल्पित उद्देश्यों के अतिरिक्त) के लिए लिया जा सकता है.

प्रॉपर्टी पर लोन अधिकतम 15 वर्ष की अवधि के लिए या रिटायरमेंट की आयु तक, दोनों में से जो भी कम हो, के लिए लिया जा सकता है.

लोन की सिक्योरिटी, आमतौर पर फाइनेंस की जाने वाली प्रॉपर्टी और/या एच डी एफ सी द्वारा मांगे जा सकने वाले अन्य कोलैटरल/अंतरिम सिक्योरिटी होगी.

हां, पूरी तरह से निर्मित और फ्रीहोल्ड कमर्शियल लोन अगेंस्ट प्रॉपर्टी (LAP) लिया जा सकता है .

आप आवश्यक डॉक्यूमेंट की सूची और लागू शुल्क व प्रभार की जानकारी https://www.hdfc.com/checklist#documents-charges पर देख सकते हैं

यह लोन नए या मौजूदा ​ऑफिस या क्लीनिक की खरीद और ऑफिस या क्लीनिक के विस्तार, सुधार या निर्माण के लिए है. किसी अन्य बैंक/फाइनेंशियल इंस्टीट्यूशन से लिया गया मौजूदा कमर्शियल प्रॉपर्टी लोन भी एच डी एफ सी में ट्रांसफर किया जा सकता है.

स्व-व्यवसायी व्यक्ति जैसे डॉक्टर, वकील, चार्टर्ड अकाउंटेंट और बिज़नेस के मालिक ऑफिस या क्लीनिक की खरीद के लिए कमर्शियल प्रॉपर्टी लोन ले सकते हैं.

कमर्शियल प्रॉपर्टी लोन अधिकतम 15 वर्ष की अवधि के लिए या रिटायरमेंट की आयु तक, दोनों में से जो भी कम हो, के लिए लिया जा सकता है.

आप आवश्यक डॉक्यूमेंट की सूची और लागू शुल्क व प्रभार की जानकारी https://www.hdfc.com/checklist#documents-charges पर देख सकते हैं

यह लोन नए या मौजूदा कमर्शियल प्लॉट की खरीद के लिए प्रदान किया जाता है. किसी अन्य बैंक/फाइनेंशियल इंस्टीट्यूशन से लिया गया मौजूदा कमर्शियल प्रॉपर्टी लोन (प्लॉट) भी एच डी एफ सी में ट्रांसफर किया जा सकता है.

स्व-व्यवसायी व्यक्ति जैसे डॉक्टर, वकील, चार्टर्ड अकाउंटेंट और बिज़नेस के मालिक ऑफिस या क्लीनिक बनाने के लिए कमर्शियल प्रॉपर्टी लोन (प्लॉट) ले सकते हैं.

कमर्शियल प्रॉपर्टी लोन अधिकतम 15 वर्ष की अवधि के लिए या रिटायरमेंट की आयु तक, दोनों में से जो भी कम हो, के लिए लिया जा सकता है.

आप आवश्यक डॉक्यूमेंट की सूची और लागू शुल्क व प्रभार की जानकारी https://www.hdfc.com/checklist#documents-charges पर देख सकते हैं

हां, होम लोन पर लागू ब्याज दर अन्य की तुलना में महिलाओं के लिए कम होती है. लागू होम लोन ब्याज दर में छूट प्राप्त करने के लिए, जिस प्रॉपर्टी के लिए लोन लेना है, महिला को उस प्रॉपर्टी का मालिक/सह-मालिक होना होगा और साथ ही एच डी एफ सी होम लोन में एप्लीकेंट/को-एप्लीकेंट होना होगा.

हाउसिंग फाइनेंस इंस्टीट्यूशन द्वारा आमतौर पर निम्न प्रकार के होम लोन प्रोडक्ट प्रदान किए जाते हैं: निम्नलिखित होम लोन लिए जा सकते हैं:

1. अप्रूव्ड प्रोजेक्ट में प्राइवेट डेवलपर से फ्लैट, रो हाउस, बंगले की खरीद की खरीद के लिए;

2.भारत में DDA, MHADA जैसे डेवलपमेंट अथॉरिटी के साथ-साथ मौजूदा को-ऑपरेटिव हाउसिंग सोसाइटी या अपार्टमेंट ओनर एसोसिएशन या डेवलपमेंट अथॉरिटी सेटलमेंट में प्रॉपर्टी खरीदने के लिए या निजी तौर बने हुए घर के लिए लोन;

3.फ्रीहोल्ड / लीज होल्ड प्लॉट पर या विकास प्राधिकरण द्वारा आवंटित भूखंड पर निर्माण के लिए लोन

प्लॉट परचेज़ लोन: प्रत्यक्ष आवंटन या द्वितीय बिक्री ट्रांजैक्शन के माध्यम से प्लॉट की खरीद के लिए प्लॉट परचेज़ लोन लिया जा सकता है, इसके साथ ही दूसरे बैंक/फाइनेंशियल इंस्टीट्यूशन से लिए गए मौजूदा प्लॉट परचेज़ लोन को ट्रांसफर भी किया जा सकता है.

बैलेंस ट्रांसफर लोन: दूसरे बैंक/फाइनेंशियल इंस्टीट्यूशन से लिए गए होम लोन की बकाया राशि को एच डी एफ सी में ट्रांसफर करना बैलेंस ट्रांसफर लोन कहलाता है .

होम इम्प्रूवमेंट लोन: यह लोन घर को रिनोवेट करने (ढांचे/कारपेट एरिया से छेड़छाड़ किए बिना) जैसे टाइल लगवाना, फर्श बनवाना, अंदर/बाहर के हिस्से का प्लास्टर और पेंटिंग करवाना आदि के लिए दिया जाता है.

होम एक्सटेंशन लोन: यह लोन घर को बढ़ाने या रहने की जगह जोड़ने जैसे अतिरिक्त कमरे या फ्लोर आदि बनाने के लिए है.

टॉप-अप लोन: टॉप-अप लोन का लाभ पर्सनल और प्रोफेशनल दोनों तरह की जरूरतों (कल्पित उद्देश्यों के अलावा) जैसे शादी, बच्चों की पढ़ाई, बिज़नेस एक्सपेंशन, अन्य लोन चुकाने आदि के लिए उठाया जा सकता है.

लोन अगेंस्ट प्रॉपर्टी (LAP): यह पूरी तरह से निर्मित, रेजिडेंशियल और कमर्शियल प्रॉपर्टी पर लिया जाने वाला लोन है: जो विवाह, चिकित्सकीय खर्च और बच्चों की पढ़ाई आदि जैसी पसर्नल और बिज़नेस आवश्यकताओं (कल्पित उद्देश्यों के अतिरिक्त) के लिए लिया जा सकता है; किसी दूसरे बैंक और फाइनेंशियल इंस्टीट्यूशन से लिए गए अपने मौजूदा लोन अगेंस्ट प्रॉपर्टी (LAP) को एच डी एफ सी में ट्रांसफर कर सकते हैं.

होम लोन पर लागू शुल्क की पूरी सूची देखने के लिए, कृपया https://www.hdfc.com/checklist#documents-charges पर जाएं

हां, आप अपने होम लोन में को-एप्लीकेंट के रूप में अपने पति या पत्नी को जोड़ सकते हैं. आपके पति या पत्नी की इनकम को भी होम लोन की पात्रता निर्धारित करने के लिए स्वीकार किया जाएगा, जो कि एच डी एफ सी द्वारा मांगे गए इनकम डॉक्यूमेंट की उपलब्धता के अधीन होगा.

आप प्री-अप्रूव्ड होम लोन के लिए अप्लाई कर सकते हैं, जो लोन के लिए आपकी इनकम, क्रेडिट योग्यता और फाइनेंशियल स्थिति के आधार पर लेंडर द्वारा किसी वैधानिक/कानूनी विवरण में जाए बिना प्रस्तावित किया जाता है. आमतौर पर, प्री-अप्रूव्ड लोन प्रॉपर्टी का चुनाव करने से पहले लिया जाता है और लोन की मंजूरी तिथि से लेकर 6 महीने तक की अवधि के लिए मान्य होता है.

होम लोन के लिए को-एप्लीकेंट होना अनिवार्य नहीं है. हालांकि जिस प्रॉपर्टी के लिए होम लोन लिया जाना है, अगर उसका स्वामित्व संयुक्त रूप से है, तो उस प्रॉपर्टी के सभी सह-मालिकों को होम लोन में को-एप्लीकेंट होना होगा. आमतौर पर को-एप्लीकेंट परिवार के करीबी सदस्य होते हैं.

हां, एच डी एफ सी अपने मौजूदा कस्टमर को अपना प्रोविजनल ब्याज स​र्टिफिकेट डाउनलोड करने की सुविधा प्रदान करता है. मौजूदा कस्टमर अपना प्रोविजनल ब्याज सर्टिफिकेट डाउनलोड करने क लिए https://online.hdfc.com/inet/ पर 'ऑनलाइन एक्सेस मॉड्यूल' में लॉन-इन कर सकते हैं.

फाइनल वित्तीय वर्ष का अपना फाइनल ब्याज सर्टिफिकेट डाउनलोड करने के लिए आप https://online.hdfc.com/inet/ पर 'ऑनलाइन एक्सेस मॉड्यूल' पर लॉग-इन कर सकते हैं.

एच डी एफ सी निर्माणाधीन प्रॉपर्टी के लिए लोन का डिस्बर्समेंट निर्माण की प्रगति के आधार पर किस्तों में करता है. प्रत्येक किस्त के डिस्बर्समेंट को 'पार्ट' या 'सब्सिक्वेंट' डिस्बर्समेंट कहा जाता है.

अब आप होम लोन के लिए ऑनलाइन अप्लाई कर सकते हैं. अभी अप्लाई करने के लिए https://portal.hdfc.com/ पर जाएं!.

EMI की शुरुआत उस महीने से होती है, जिस महीने लोन का डिस्बर्समेंट होता है. निर्माणाधीन प्रॉपर्टी के लिए लोन की EMI आमतौर पर पूरा होम लोन डिस्बर्स होने के बाद शुरू होती है, लेकिन कस्टमर अपने पहले डिस्बर्समेंट का लाभ लेने के समय से भी EMI देने की शुरुआत कर सकते हैं और हर डिस्बर्समेंट के अनुसार, उसी अनुपात में EMI बढ़ती जाएगी. रीसेल वाले मामले में, लोन की पूरी राशि एक बार में डिस्बर्समेंट होती है, तो EMI डिस्बर्समेंट के महीने के बाद शुरू होती है

आपको लोन की राशि के आधार पर प्रॉपर्टी की कुल लागत का 10-25% 'ओन कॉन्ट्रिब्यूशन' के रूप में भुगतान करना होता है. प्रॉपर्टी की लागत का 75 से 90% होम लोन के रूप में लिया जा सकता है. कंस्ट्रक्शन, होम इम्प्रूवमेंट और होम एक्सटेंशन लोन के मामले में, कंस्ट्रक्शन/इम्प्रूवमेंट/एक्सटेंशन एस्टिमेट का 75 से 90% तक फंड किया जा सकता है.

A home loan is usually repaid through Equated Monthly Instalments (EMI).The EMI comprises of the principal and interest components which are structured in a way that in the initial years of your loan, the interest component is much larger than the principal component, while towards the latter half of the loan, the principal component is much larger.

चैट शुरू करें!