डिपॉज़िट

सभी के लिए इन्वेस्टमेंट

क्या आप प्रवासी भारतीय हैं?
नहीं
हां

डिपॉज़िट का संक्षिप्त विवरण

साढ़े तीन दशकों से अधिक समय से, एच डी एफ सी के फिक्स्ड डिपॉज़िट ने लगातार एक समान प्रदर्शन किया है. हमने 6 लाख से भी अधिक डिपॉज़िटर का विश्वास हासिल किया है.

एच डी एफ सी को अपने डिपॉज़िट प्रोग्राम के लिए लगातार 25 वर्षों तक दो प्रमुख क्रेडिट रेटिंग एजेंसियों (CRISIL और ICRA) से AAA रेटिंग प्राप्त हुई है, जिससे इसके इन्वेस्टर और प्रमुख पार्टनरों में बेहद भरोसा और विश्वास कायम हुआ है.

हर एच डी एफ सी प्रोडक्ट ऑफरिंग का मूल उद्देश्य हमेशा कस्टमर की पूर्ण संतुष्टि रहा है. एच डी एफ सी के डिपॉज़िटर को पूरे भारत में फैले 420 इंटर-कनेक्टेड ऑफिस द्वारा सर्विस प्रदान की जाती है, जिनमें से 77 डिपॉज़िट सेंटर में इंस्टेंट सर्विस दी जाती है. एच डी एफ सी ने ब्याज भुगतान, डिपॉज़िट पर इंस्टेंट लोन और कई अन्य चीज़ों के लिए इलेक्ट्रॉनिक भुगतान की सुविधा प्रदान करके सर्विस डिलीवरी के रूप में लगातार उच्च मानक निर्धारित किए हैं.

मुख्य विशेषताएं

  • उच्चतम सुरक्षा - लगातार 25 वर्षों से CRISIL और ICRA दोनों से AAA रेटिंग.
  • आकर्षक और सुनिश्चित रिटर्न.
  • संपूर्ण देश में 420 ऑफिस के माध्यम से त्रुटिरहित सेवा.
  • चुनने के लिए डिपॉज़िट प्रोडक्ट की विस्तृत रेंज.
  • हमारे प्रमुख पार्टनर नेटवर्क के माध्यम से घर बैठे सहायता.
  • जमा राशि पर तुरंत लोन की सुविधा.

 

अगर आप भारत के निवासी हैं, तो आप प्रतिस्पर्धी ब्याज दरों और अपनी इन्वेस्टमेंट आवश्यकताओं के अनुरूप विभिन्न सुविधाओं वाले 12 से 84 महीने तक की मेच्योरिटी वाले डिपॉज़िट प्रोडक्ट की विस्तृत रेंज में से चुन सकते हैं. 60 वर्ष या उससे अधिक आयु के वरिष्ठ नागरिकों को सभी डिपॉज़िट प्रोडक्ट पर अतिरिक्त 0.25% प्रति वर्ष प्रदान किया जाता है.

  • मंथली इनकम प्लान
  • गैर-संचयी ब्याज योजना
  • एनुअल इनकम प्लान
  • क्युमुलेटिव ऑप्शन्स
    • आपको नियमित मासिक इनकम प्रदान करता है.
    • मासिक ब्याज ECS के माध्यम से सीधे आपके बैंक अकाउंट में क्रेडिट होता है.
    • सेवानिवृत्त लोगों, गृहिणिओं और वरिष्ठ नागरिकों के लिए उपयुक्त है
    • फिक्स्ड और वेरिएबल ब्याज दरों में उपलब्ध है.
    • ब्याज से मिलने वाली नियमित इनकम आपको तिमाही या अर्ध-वार्षिक आधार पर मिलेगी.
    • ब्याज ECS के माध्यम से सीधे आपके बैंक अकाउंट में क्रेडिट होगा.
    • प्रत्येक तिमाही/छमाही के अंत में फंड संबंधी आवश्यकताओं की पूर्ति का प्लान बनाने के लिए आदर्श.
    • फिक्स्ड और वेरिएबल ब्याज दरों में उपलब्ध है.
    • आपको नियमित वार्षिक ब्याज इनकम प्रदान करता है.
    • ब्याज ECS के माध्यम से सीधे आपके बैंक अकाउंट में क्रेडिट होगा.
    • अधिकतम रिटर्न पाने और वार्षिक नकदी की आवश्यकता के लिए आदर्श विकल्प.
    • फिक्स्ड और वेरिएबल ब्याज दरों में उपलब्ध है.
    • यह डिपॉज़िट, अवधि के अंत में आपको एकमुश्त प्रदान किया जाता है.
    • भविष्य की आवश्यकताओं व अधिकतम रिटर्न के लिए राशि संचित करने का आदर्श विकल्प.
    • उन माता-पिता के लिए सबसे उपयुक्त जो अपने बच्चे की उच्च शिक्षा/शादी के बारे में प्लान कर रहे हैं.
    • फिक्स्ड और वेरिएबल ब्याज दरों में उपलब्ध है.

विशेषताएं

आप डिपॉज़िट की तिथि से तीन महीने के बाद डिपॉज़िट पर 75% तक का लोन ले सकते हैं, जो एच डी एफ सी द्वारा बनाए गए अन्य नियम व शर्तों के अधीन होगा. ऐसे लोन पर ब्याज की दर डिपॉज़िट की दर से 2% अधिक होगी.

जहां भी यह सुविधा उपलब्ध हो, वहां कुल जमा राशि पर मिलने वाला ब्याज सीधे आपके अकाउंट में इलेक्ट्रॉनिक क्लीयरिंग सर्विस के माध्यम से जमा कर दिया जाएगा.

आपको डिपॉज़िट पर ब्याज का भुगतान उस तिथि को किया जाएगा, जिस दिन चेक क्लियर हुआ हो या RTGS के जरिए पैसा एच डी एफ सी बैंक अकाउंट में जमा हुआ हो. मासिक इनकम प्लान, गैर संचयी विकल्प व वार्षिक इनकम प्लान के अंर्तगत जमा पर लगने वाले ब्याज का भुगतान नीचे दी गई निश्चित तिथियों पर किया जाएगा:

डिपॉज़िट प्लान निश्चित तिथियां
मंथली इनकम प्लान (MIP) हर महीने का आखिरी दिन
नॉन-क्युमुलेटिव: क्वार्टरली ऑप्शन 30 जून, 30 सितंबर, 31 दिसंबर और 31 मार्च
नॉन-क्युमुलेटिव: हाफ-ईयरली ऑप्शन सितंबर 30 व मार्च 31
एनुअल इनकम प्लान (AIP) मार्च 31

 

संचयी ब्याज विकल्प: जिस मामले में लागू हो, उसमें, हर वर्ष 31 मार्च को टैक्स काटने के बाद ब्याज का सालाना संचय किया जाएगा. मेच्योरिटी पर हमें डिस्चार्ज डिपॉज़िट रसीद प्राप्त हो जाने के बाद ब्याज के साथ मूलधन का भुगतान किया जाएगा. जिन केंद्रों पर ECS सुविधा उपलब्ध है वहां ब्याज राशि (कुल TDS - जहां लागू हो) का भुगतान ECS द्वारा किया जाएगा. जहां ECS सुविधा उपलब्ध नहीं है, वहां ब्याज का भुगतान फर्स्ट - नॉमिनी डिपॉज़िटर के बैंक अकाउंट में अकाउंट पेयी चेक द्वारा जमा किया जाएगा. MIP के केस में, प्रत्येक वित्तीय वर्ष के लिए पोस्ट-डेटेड ब्याज चेक एडवांस में जारी किए जाएंगे. वेरिएबल रेट डिपॉज़िट के तहत मासिक इनकम प्लान पर ब्याज को महीने के अंतिम दिन, केवल ECS द्वारा डिपॉज़िटर के बैंक अकाउंट में क्रेडिट किया जाएगा. मेच्योरिटी तिथि के बाद ब्याज तभी प्राप्त होगा जब डिपॉज़िट को रिन्यू किया गया हो.

ब्याज की दर (RoI) प्रत्येक ब्याज अवधि की शुरुआत में रीसेट की जाएगी. ब्याज अवधि के पहले दिन की ब्याज दर पूरी ब्याज अवधि के लिए लागू होगी.

किसी वित्तीय वर्ष में ₹ 5000 तक के ब्याज के भुगतान/क्रेडिट होने पर स्रोत पर कोई टैक्स कटौती नहीं होगी. इनकम टैक्स एक्ट 1961 की धारा 194A के तहत लागू दरों के अनुसार स्रोत पर इनकम टैक्स कटौती की जाएगी. अगर डिपॉज़िटर इनकम टैक्स के दायरे में नहीं आता है और किसी फाइनेंशियल वर्ष में भुगतान/ क्रेडिट किया जाने वाला ब्याज, इनकम टैक्स देने योग्य अधिकतम राशि से अधिक नहीं है, तो डिपॉज़िटर फॉर्म नं. 15G में यह घोषणा जमा कर सकता है ताकि स्रोत पर इनकम टैक्स नहीं काटा जाए. ऐसे केस में, फॉर्म 15G में पैन (परमानेंट अकाउंट नंबर) बताया जाना चाहिए, अन्यथा फॉर्म अमान्य होगा. वरिष्ठ नागरिक (60 वर्ष और उससे अधिक) फॉर्म नं 15H में घोषणा पत्र जमा कर सकते हैं. इनकम टैक्स एक्ट, 1961 की धारा 139A(5A) के अनुसार, प्रत्येक व्यक्ति को किसी भी उस राशि या आय प्राप्त करने पर जिस पर इनकम टैक्स काटा जाना है, उसे उस टैक्स काटने के लिए जिम्मेदार व्यक्ति को अपना पैन बताना होगा. इसके अलावा, 139A (5B) के अनुसार, इस तरह का टैक्स काटने वाले व्यक्ति को TDS सर्टिफिकेट पर पैन का उल्लेख करना होगा. अगर पैन का उल्लेख न किया गया हो, तो इनकम टैक्स एक्ट 1961 की धारा 206AA (1) के अनुसार, TDS की दर 20% होगी. ₹ 50,000 और उससे अधिक डिपॉज़िट करने पर, पैन बताना अनिवार्य है.

आपका मेच्योरिटी से पहले निकासी का अनुरोध एच डी एफ सी के विवेक के आधार पर मंज़ूर किया जाएगा, यह आपका अधिकार नहीं है, यह समय-समय पर जारी होने वाले हाउसिंग फाइनेंस कंपनीज़ (NHB) के 2010 के निर्देशों पर आधारित है.

डिपॉज़िट की तिथि से तीन महीने पूरे होने से पहले, समय से पहले निकासी की अनुमति नहीं होगी. तीन महीने की समाप्ति के बाद समय से पहले निकासी के अनुरोध के मामले में, निम्न तालिका में दी गई दरें लागू होंगी.

डिपॉज़िट तिथि से पूरे हुए महीने  देय ब्याज दर
3 महीने के बाद लेकिन 6 महीने से पहले वैयक्तिक जमाकर्ता के लिए प्रति वर्ष अधिकतम 4 प्रतिशत ब्याज देय होगा और अगर जमाकर्ता की कोई अन्य श्रेणी है, तो उसे कोई ब्याज देय नहीं होगा
6 महीने के बाद लेकिन मेच्योरिटी तिथि से पहले जिस अवधि के लिए पैसा जमा किया गया है, उस अवधि में मिलने वाला ब्याज, पब्लिक डिपॉज़िट पर मिलने वाले ब्याज से एक फीसदी कम होगा और अगर उस अवधि के लिए कोई दर तय नहीं है तो ब्याज, एच डी एफ सी के पब्लिक डिपॉज़िट पर मिलने वाले ब्याज से दो फीसदी कम होगा.

डिपॉज़िट के रिन्युअल या इसके रीपेमेंट के लिए, आपको मेच्योरिटी तिथि से कम से कम एक सप्ताह पहले एच डी एफ सी को डिपॉज़िट रसीद जमा करनी होगी. रिन्युअल के केस में, सभी डिपॉज़िटर द्वारा हस्ताक्षरित निर्धारित एप्लीकेशन फॉर्म भी साथ में जमा करना होगा. अगर मेच्योरिटी तिथि किसी ऐसे दिन हो जब एच डी एफ सी का ऑफिस बंद रहता है, तो रीपेमेंट अगले कार्य दिवस में किया जाएगा. डिपॉज़िट का रीपेमेंट, डिपॉज़िटर के अनुरोध के आधार पर प्रथम डिपॉज़िटर के पक्ष में अकाउंट पेयी चेक द्वारा या फिर NEFT/RTGS के माध्यम से सीधे प्रथम डिपॉज़िटर के बैंक अकाउंट में राशि जमा करके किया जाएगा.

इस सुविधा के तहत केवल व्यक्तिगत डिपॉज़िटर, एकल या संयुक्त रूप से, किसी एक व्यक्ति को नॉमिनेट कर सकते हैं. अगर डिपॉज़िट किसी नाबालिग के नाम पर रखा गया है, तो नॉमिनेशन केवल ऐसे व्यक्ति द्वारा किया जा सकता है जो कानूनी रूप से नाबालिग की ओर से कार्रवाई करने का हकदार हो. पावर ऑफ अटॉर्नी धारक या ऑफिस होल्डर के रूप में प्रतिनिधित्व करने वाला कोई व्यक्ति या कोई और नॉमिनेट नहीं कर सकता. नॉमिनी व्यक्ति को डिपॉज़िट से संबंधित राशि प्राप्त करने का अधिकार होगा और एच डी एफ सी द्वारा नॉमिनी को भुगतान करने पर एच डी एफ सी का डिपॉज़िट से संबंधित अपनी देयता का पूर्ण निर्वहन होना माना जाएगा. नॉमिनी व्यक्ति का नाम फिक्स्ड डिपॉज़िट रसीद पर प्रिंट किया जाएगा, जब तक कि अन्यथा उल्लेख न किया गया हो.

प्रिवेंशन ऑफ मनी लॉन्ड्रिंग एक्ट, 2002 के तहत निर्देशित नियम और नेशनल हाउसिंग बैंक (NHB) द्वारा जारी किए गए KYC दिशानिर्देशों के संदर्भ में आपको निम्नलिखित डॉक्यूमेंट जमा करके KYC आवश्यकताओं का पालन करना होगा:

  • नवीनतम फोटोग्राफ
  • पहचान पत्र की एक प्रामाणिक कॉपी
  • निवास प्रमाण पत्र की एक प्रामाणिक कॉपी

अगर आपने पहले डिपॉज़िट में ही उपरोक्त डॉक्यूमेंट जमा कर दिए हैं, तो आपको दोबारा डॉक्यूमेंट जमा कराने की जरूरत नहीं है, लेकिन आपको कस्टमर नंबर और डिपॉज़िट नंबर का संदर्भ देना होगा.

ब्याज दरें

24 दिसंबर 2019 से प्रभावी

स्पेशल डिपॉज़िट (फिक्स्ड दरें) Deposits upto ₹2 crore (p.a.)
अवधि मंथली इनकम प्लान क्वार्टरली ऑप्शन हाफ-ईयरली ऑप्शन एनुअल इनकम प्लान क्युमुलेटिव ऑप्शन्स
33 महीने 7.25% 7.30% 7.37% 7.50% 7.50%
66 महीने 7.25% 7.30% 7.37% 7.50% 7.50%

प्रीमियम डिपॉज़िट (फिक्स्ड दरें) Deposits upto ₹2 crore (p.a.)
अवधि मंथली इनकम प्लान क्वार्टरली ऑप्शन हाफ-ईयरली ऑप्शन एनुअल इनकम प्लान क्युमुलेटिव ऑप्शन्स
15 महीने 7.10% 7.15% 7.22% - 7.35%
22 महीने 7.20% 7.25% 7.32% 7.45% 7.45%
30 महीने 7.15% 7.20% 7.27% 7.40% 7.40%
44 महीने 7.20% 7.25% 7.32% 7.45% 7.45%

रेगुलर डिपॉज़िट (फिक्स्ड और वेरिएबल दरें) Deposits upto ₹2 crore (p.a.)
अवधि मंथली इनकम प्लान क्वार्टरली ऑप्शन हाफ-ईयरली ऑप्शन एनुअल इनकम प्लान क्युमुलेटिव ऑप्शन्स
12-23 महीने 7.05% 7.10% 7.17% - 7.30%
24-84 महीने 7.05% 7.10% 7.17% 7.30% 7.30%
न्यूनतम राशि (₹) 40,000 20,000 20,000 20,000 20,000

रेगुलर डिपॉज़िट (फिक्स्ड और वेरिएबल दरें) Deposits exceeding ₹2 crore & upto ₹5 crore (p.a.)
अवधि मंथली इनकम प्लान क्वार्टरली ऑप्शन हाफ-ईयरली ऑप्शन एनुअल इनकम प्लान क्युमुलेटिव ऑप्शन्स
12-23 महीने 7.10% 7.15% 7.22% - 7.35%
24-84 महीने 7.10% 7.15% 7.22% 7.35% 7.35%

रेगुलर डिपॉज़िट (फिक्स्ड और वेरिएबल दरें) Deposits exceeding ₹5 crore & upto ₹10 crore (p.a.)
अवधि मंथली इनकम प्लान क्वार्टरली ऑप्शन हाफ-ईयरली ऑप्शन एनुअल इनकम प्लान क्युमुलेटिव ऑप्शन्स
12-23 महीने 6.90% 6.95% 7.02% - 7.15%
24-84 महीना 6.90% 6.95% 7.02% 7.15% 7.15%

24 दिसंबर 2019 से प्रभावी

रेगुलर डिपॉज़िट (फिक्स्ड और वेरिएबल दरें) Deposits exceeding ₹10 crore & below ₹25 crore (p.a.)
अवधि मंथली इनकम प्लान क्वार्टरली ऑप्शन हाफ-ईयरली ऑप्शन एनुअल इनकम प्लान क्युमुलेटिव ऑप्शन्स
12-23 महीने 6.85% 6.90% 6.97% - 7.10%
24-84 महीने 6.85% 6.90% 6.97% 7.10% 7.10%

Effective February 17, 2020

रेगुलर डिपॉज़िट (फिक्स्ड और वेरिएबल दरें) Deposits of ₹25 crore & above (p.a.)
अवधि मंथली इनकम प्लान क्वार्टरली ऑप्शन हाफ-ईयरली ऑप्शन एनुअल इनकम प्लान क्युमुलेटिव ऑप्शन्स
12-23 महीने 6.75% 6.80% 6.87% - 7.00%
24-84 महीने 6.75% 6.80% 6.87% 7.00% 7.00%

रीअकरिंग डिपॉज़िट प्लान (RD) फिक्स्ड रेट इंस्टॉलमेंट डिपॉज़िट प्लान
डिपॉज़िट की अवधि ब्याज दर (प्रति वर्ष) #
12-60 महीने 6.95%

*न्यूनतम मासिक बचत राशि ₹ 2,000/-

*A. वरिष्ठ नागरिक (60 वर्ष+) ₹ 2 करोड़ तक के डिपॉज़िट (रीअकरिंग डिपॉज़िट के अलावा) पर प्रति वर्ष अतिरिक्त 0.25% के लिए पात्र होंगे

*B. संचयी ब्याज विकल्प और रीअकरिंग डिपॉज़िट प्लान के लिए ब्याज सालाना रूप से संचय किया जाता है.

 

 

ब्याज दरें परिवर्तनशील हैं और जमाराशि की दिनांक पर प्रचलित दर ही, लागू दर होगी.

24 दिसंबर 2019 से प्रभावी

स्पेशल डिपॉज़िट (फिक्स्ड दरें) Deposits upto ₹2 crore (p.a.)
अवधि मंथली इनकम प्लान क्वार्टरली ऑप्शन हाफ-ईयरली ऑप्शन एनुअल इनकम प्लान क्युमुलेटिव ऑप्शन्स
33 महीने 7.20% 7.25% 7.32% 7.45% 7.45%
66 महीने 7.20% 7.25% 7.32% 7.45% 7.45%
न्यूनतम राशि (₹) ₹ 40,000 ₹ 20,000 ₹ 20,000 ₹ 20,000 ₹ 20,000

प्रीमियम डिपॉज़िट (फिक्स्ड दरें) Deposits upto ₹2 crore (p.a.)
अवधि मंथली इनकम प्लान क्वार्टरली ऑप्शन हाफ-ईयरली ऑप्शन एनुअल इनकम प्लान क्युमुलेटिव ऑप्शन्स
15 महीने 7.15% 7.20% 7.27% - 7.40%
30 महीने 7.15% 7.20% 7.27% 7.40% 7.40%
न्यूनतम राशि (₹) ₹ 40,000 ₹ 20,000 ₹ 20,000 ₹ 20,000 ₹ 20,000

रेगुलर डिपॉज़िट (फिक्स्ड और वेरिएबल दरें) Deposits upto ₹2 crore (p.a.)
अवधि मंथली इनकम प्लान क्वार्टरली ऑप्शन हाफ-ईयरली ऑप्शन एनुअल इनकम प्लान क्युमुलेटिव ऑप्शन्स
12-23 महीने 7.05% 7.10% 7.17% - 7.30%
24-84 महीने 7.05% 7.10% 7.17% 7.30% 7.30%
न्यूनतम राशि(₹) ₹ 40000 ₹ 20000 ₹ 20000 ₹ 20000 ₹ 20000

रेगुलर डिपॉज़िट (फिक्स्ड और वेरिएबल दरें) Deposits exceeding ₹2 crore & upto ₹5 crore (p.a.)
अवधि मंथली इनकम प्लान क्वार्टरली ऑप्शन हाफ-ईयरली ऑप्शन एनुअल इनकम प्लान क्युमुलेटिव ऑप्शन्स
12-23 महीने 7.10% 7.15% 7.22% - 7.35%
24-84 महीने 7.10% 7.15% 7.22% 7.35% 7.35%

रेगुलर डिपॉज़िट (फिक्स्ड और वेरिएबल दरें) Deposits exceeding ₹5 crore & upto ₹10 crore (p.a.)
अवधि मंथली इनकम प्लान क्वार्टरली ऑप्शन हाफ-ईयरली ऑप्शन एनुअल इनकम प्लान क्युमुलेटिव ऑप्शन्स
12-23 महीने 6.90% 6.95% 7.02% - 7.15%
24-84 महीने 6.90% 6.95% 7.02% 7.15% 7.15%

24 दिसंबर 2019 से प्रभावी

रेगुलर डिपॉज़िट (फिक्स्ड और वेरिएबल दरें) Deposits exceeding ₹10 crore & below ₹25 crore (p.a.)
अवधि मंथली इनकम प्लान क्वार्टरली ऑप्शन हाफ-ईयरली ऑप्शन एनुअल इनकम प्लान क्युमुलेटिव ऑप्शन्स
12-23 महीने 6.85% 6.90% 6.97% - 7.10%
24-84 महीने 6.85% 6.90% 6.97% 7.10% 7.10%

Effective February 17, 2020

रेगुलर डिपॉज़िट (फिक्स्ड और वेरिएबल दरें) Deposits of ₹25 crore & above (p.a.)
अवधि मंथली इनकम प्लान क्वार्टरली ऑप्शन हाफ-ईयरली ऑप्शन एनुअल इनकम प्लान क्युमुलेटिव ऑप्शन्स
12-23 महीने 6.75% 6.80% 6.87% - 7.00%
24-84 महीने 6.75% 6.80% 6.87% 7.00% 7.00%

ब्याज दरें परिवर्तनशील हैं और जमाराशि की दिनांक पर प्रचलित दर ही, लागू दर होगी.

प्रमुख पार्टनर बनें

एच डी एफ सी ने 17 लाख से अधिक डिपॉज़िटर से घरेलू धन जुटाया है. हमारे डिपॉज़िट प्रोडक्ट को पिछले 25 वर्षों में लगातार CRISIL और ICRA से 'AAA' क्रेडिट रेटिंग प्राप्त हुई है और हम असाधारण उच्च स्तरीय सर्विस ऑफर करते हैं.

हमारे सभी रिटेल सेविंग प्रोडक्ट को मुख्य रूप से हमारे प्रमुख पार्टनरों के माध्यम से वितरित किया जाता है. आकर्षक ब्रोकरेज/कमीशन स्ट्रक्चर से लाभ उठाने के अलावा, हमारे प्रमुख पार्टनर अन्य फाइनेंशियल इंस्टीट्यूशन के एजेंट होने के लिए भी स्वतंत्र हैं. इससे एक प्रमुख पार्टनर के रूप में आपको मदद मिलेगी, आपका ऑफरिंग का पोर्टफोलियो मजबूत होगा और आप अपने कस्टमर को इन्वेस्टमेंट के विभिन्न विकल्प देने में सक्षम होंगे.

  • आकर्षक पारिश्रमिक सिस्टम
  • एच डी एफ सी कर्मियों का पूर्ण सहयोग
  • बेहद सुरक्षित प्रोडक्ट लाइन
  • एक विश्व स्तरीय संगठन के रूप जाना जाता है
  • लोकप्रिय घरेलू ब्रांड
  • अन्य फाइनेंशियल इंस्टीट्यूशन के वितरक बनने का विकल्प भी है

2 आसान चरणों का पालन करें

चरण 1

नीचे दिए गए लिंक पर उपलब्ध फॉर्म भरें और किसी भी नज़दीकी एच डी एफ सी डिपॉज़िट सेंटर में जमा करें या एप्लीकेशन फॉर्म लेने के लिए किसी भी एच डी एफ सी डिपॉज़िट ब्रांच में जाएं.


डिपॉज़िट एजेंट फॉर्म

चरण 2

आपका इंटरव्यू लिया जाएगा और अगर आप उत्तीर्ण हुए, तो आपको अधिकृत प्रमुख पार्टनर के रूप में रजिस्टर किया जाएगा.

पूरे भारत में एच डी एफ सी के डिपॉज़िट सेंटर

चैट शुरू करें!